सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

दुनिया के अलग अलग हिस्सो में शादी के अजीब नियम ! Strange rules of marriage in different parts of the world

दुनिया के अलग अलग हिस्सो में शादी के अजीब नियम कौन से हैं?


मंगोलिया मे शादी करने से पहले युवा जोड़े एक साथ एक चाकू पकड़ कर एक चिकन (मुर्गी के बच्चा) को मरते हैं। इसके बाद उस मारे चिकन के शरीर से लीवर को खोज कर निकालना होता हैं। अगर लीवर स्वस्थ हैं तो युवा अपनी शादी का दिन खुद निर्धारित करेंगे अन्यथा उन्हे फिर से चिकन को मारना होगा।
भारत मे कई जगह मान्यता हैं की जब कोई लड़की मांगलिक होती हैं तो जिस व्यक्ति के साथ उसकी शादी होगी वह जल्दी मर जाएगा। इस लिए उस मांगलिक लड़की की शादी एक पेढ के साथ कर दी जाती हैं और फिर उस पेड को काट दिया जाता हैं। इसके बाद माना जाता हैं की लड़की का मांगलिक दोष समाप्त हो गया हैं।
चाइना मे शादी के एक महिना पहले से दुल्हन रोज एक घंटे के लिए रोटी हैं फिर दस दिन बाद दुल्हन की माँ दुल्हन के साथ एक घाटे के लिए रोटी हैं उसके दस दिन बाद दुल्हन की दादी भी रोना प्रारम्भ कर देती हैं। और शादी के दिन घर की सभी महिलाए रोना प्रारम्भ कर देती हैं।
दक्षिणी सुडान मे पति पत्नी की सदी जब तक मान्य नहीं होती हैं जब तक पत्नी दो बच्चो को जन्म न दे दे। अगर पत्नी दो बच्चो को जन्म नहीं देती हैं तो पति के पास यह अधिकार होता हैं की वह अपनी पत्नी को कभी भी तलाक दे सकता हैं।
केन्या के मसाई कबीले मे जब दुल्हन अपने पति के साथ उसके घर जा रही होती हैं। तब दुल्हन का पिता दुल्हन को आशीर्वाद देने के लिए दुल्हन के माथे और सीने मे थूकता हैं।
स्वीडन मे जब दुल्हन और दूल्हे खाने के बीच अगर उठ कर बाथरूम जाता है तो दूसरे पार्टनर को वह पर मौजूद मेहमान किस(चूमेंगे)। अगर दूल्हा बाथरूम जाता हैं तो मेहमान पुरुष दुल्हन को चूमेंगे और अगर दुल्हन बाथरूम जाती हैं तो महिला मेहमान दूल्हे को चूमेंगे।
स्पार्टा मे शादी के बाद पुरुष को महिला के कपड़े पहनने होते हैं जबकि महिला को अपने सिर के सारे बाल कटवा कर टक्ला होना होता हैं तथा पुरुष के कपड़े महनने होते हैं।
अफ्रीका के कई देशो मे शादी के बाद जब दुल्हन और दूल्हा अपने कमरे मे जाते हैं तो उस रात उनके कमरे मे परिवार का कोई बुजुर्ग भी वह उनके साथ पूरी रात रहेगा आम तौर मे दुल्हन की माँ उस कमरे मे दूल्हा और दुल्हन के साथ होती हैं।
अफ्रीका के एक देश कांगो मे शादी के दौरान दुल्हन और दूल्हे को हँसना सख्त माना हैं।
अफ्रीका और एशिया के कई देशो मे अगर दूल्हा किसी लड़की को किडनैप कर उसे अपने घर मे 2-4 दिन छिपा ले तो वह लड़की उसकी पत्नी मानी जाती हैं।
जर्मनी मे दूल्हा और दुल्हन को एक साथ लकड़ी का एक टुकड़ा काटना होता हैं जो की उनके मधुर और एक साथ काम करने के संबंध की प्रार्थना करने के लिए किया जाने वाली परंपरा हैं।
स्कॉटलैंड मे शादी के बाद जब दूल्हा और दुल्हन जब दूल्हा के घर मे प्रवेश करते हैं जब दूल्हे के घर वाले कई प्रकार के मिश्रित पानी को नव दंपट्टी के ऊपर उड़ेलते हैं कई बार जनवारों की टट्टी का भी इस्तेमान किया जाता हैं तथा कई बार घर के बाहर पेड़ो से भी नव दंपट्टी को बांध दिया जाता हैं। इस परंपरा से लोगो का माना है की अगर यह दंपट्टी इस प्रताड़णा को सह लेते हैं तो वह जीवन के किसी भी कष्ट को सह सकते हैं।

Comments