क्यों बनाई जाती हैं मां दुर्गा की मूर्ति वेश्‍यालय की मिट्टी से?

विनय गोस्वामी (Vinay Goswami),
जी हाँ, ये बात न केवल सत्य है बल्कि इसके पीछे बहुत ही गहराई पूर्ण उद्देश्य भी है। यों तो दुर्गा पूजा या दुर्गा उत्सव सम्पूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाने वाला त्योहार है लेकिन इसकी शुरआत पश्चिम बंगाल से हुई थी। यह त्योहार पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार है जिसमे बड़े बड़े पंडाल सजाकर उनमे मां दुर्गा की प्रतिमा की पूजा की जाती है। कलकत्ता का एक खास इलाका पूजा की मूर्तियों के निर्माण और निर्माण करने वाले कारीगरों के लिये पूरे भारत मे प्रसिद्ध है। विधि विधान से मां दुर्गा की मूर्ति बनाने की जो परंपरा सदियों से चली आ रही है उसके अनुसार जिस मिट्टी से प्रतिमा तैयार की जाती है उस मिट्टी में थोड़ी मिट्टी पवित्र गंगा के किनारे से, थोड़ी सी मिट्टी वेश्याओं के आंगन से और कुछ गौमूत्र और गोबर, इन सब को मिलाया जाता है। इसमे जो बात अनजान लोगों को अचम्भित करती है वो ये हां की इतनी पवित्र मूर्तियों मे वेश्याओं के आंगन की मिट्टी भला क्यों मिलाई जाती है ? यों तो इसके पीछे कई किंवदंतिया मशहूर है जिनमे से एक यह भी है कि- एक दफा एक वेश्या ने मां दुर्गा की अनन्य भक्ति की …

नमक के बारे में कुछ रोचक तथ्य ! Some interesting facts about salt



1. भारत नमक के उत्पादन के मामले में तीसरे नंबर पर है. भारत में 70% नमक समुद्र के पानी से बनता है.
2. भारत में सेंघा नमक हिमाचल प्रदेश में ही उत्पन्न होता है.
3. आजादी से पहले भारत में नमक की बहोत ही कमी थी जिसकी वजह से हमको नमक का आयात करना पड़ता था.
4. वैज्ञानिको के अनुसार दुनिया में नमक कभी भी खत्म नही होगा क्यूंकि समुद कभी सुख नहीं सकता है.
5. अगर सही मात्रा में नमक का इस्तमाल किया जाए तो यह हमारे शरीर में रोग प्रतिकारक शक्ति को बढाता है.
6. अगर आप ज्यादा मात्रा में नमक का इस्तमाल करते हो तो आपकी मौत भी हो सकती है.
7. काले नमक का उपयोग दवाई में अधिक मात्रा में होता है क्यूंकि यह शरीर के लिए बेहद ही फायदेमंद है और इसको कही भी उगाया या बनाया नही जाता है बल्कि यह कुदरत की दें है जो पहाड़ो और ज्वालामुखी के पत्थर से मिलता है.
8. काले नमक में सोडियम, क्लोराइड, सल्फर, आयरन, हाइड्रोजन , पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम, गेगेट, आयोडीन जैसे 80 तरह के खनिज तत्व होते है जो हमारे शरीर के लिए बेहद ही फायदेमंद है.
9. अगर आपको पता ना हो तो बता दे की समुदी नमक में एल्युमिनियम सिलिकेट और पोटेशियम अयोडेट जैसे घातक राशायन होते है इसी वजह से अमेरिका, डेनमार्क सहित दुनिया के 56 देशो ने सफ़ेद नमक पर रोक लगा दी है लेकिन भारत में 90% लोग सफ़ेद नमक का ही इस्तमाल करते है.
10. हर साल सफ़ेद नमक का इस्तमाल करने के कारण कई सारे लोगो को कैंसर, शिर पर गांठ जैसी बीमारी हो जाती है और मर जाते है.

Comments