कंडोम के कुछ मज़ेदार उपयोग

जितेन्द्र प्रताप सिंह (Jitendra Pratap Singh)
कुछ साल पहले उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बहुत खुश हुआ जब बनारस के बुनकरों में मुफ्त में बांटे जाने वाले कंडोम की मांग खूब बढ़ गई। स्वास्थ्य विभाग यह सोच रहा था कंडोम बांटने से बुनकरों के जनसंख्या वृद्धि रुकेगी और कंडोम का सही इस्तेमाल होगा लेकिन जब पता चला कि बनारसी साड़ी बनाने वाले बुनकर मुफ्त में मिलने वाले कंडोम का इस्तेमाल साड़ी बनाने में कर रहे हैं तब ना सिर्फ उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बल्कि पूरी दुनिया चौक उठी थी साड़ी बनाने वाले बुनकर कंडोम का इस्तेमाल अपने करघा पर करते हैं. साड़ियाँ तैयार करने में इस्तेमाल हो रहे हैं कंडोम दरअसल कंडोम में चिकनाई युक्त पदार्थ होता है और करघा पर लगाने से उसके धागे तेज़ी से चलते हैं और उनमें चमक भी आ जाती है. क्योंकि कंडोम में प्राकृतिक रबड़ यानी लैक्टेस होता है इसलिए बुनकर बुनाई के पहले धागों को कंडोम से खूब रगड़ देते हैं जिससे धागे में इतनी अच्छी चिकनाई आ जाती है इस साड़ी की बुनाई करते समय धागा फसता नहीं है और बुनाई तेजी से होता है और साड़ियों में बहुत अच्छी प्राकृतिक चमक आ जात…

दुनिया में ऐसे कितने देश हैं जहां एक भी भारतीय नहीं रहता

पूरी दुनिया मे कुल 195 देश हैं जिनमे से 193 देशों को संयुक्त राष्ट्र की मान्यता प्राप्त है। जिनमे से केवल तीन ही देश ऐसे हैं जिनमे एक भी भारतीय🇮🇳🇮🇳 नही हैं।
1-दुनिया का सबसे छोटा देश, वेटिकन सिटी, 0.44 वर्ग किमी (लगभग .2 वर्ग मील) पर है और यह पूरी तरह से रोम शहर से घिरा हुआ है। वेटिकन सिटी दुनिया भर में रोमन कैथोलिक धर्म के लाखों लोगों के लिए आध्यात्मिक केंद्र के रूप में कार्य करता है। आश्चर्य नहीं कि जनसंख्या में सबसे छोटा देश होने के कारण इसमें कोई भारतीय नहीं है। इसकी कुल जनसंख्या ही 1000 के करीब है।
चित्र स्त्रोत[1]

2. सैन मैरिनो (आधिकारिक तौर पर सैन मैरिनो गणराज्य) एक ऐसा सुव्यवस्थित देश है, जो इटली से घिरा हुआ है, यहां की आबादी लगभग 335620 है, इसमें कोई भी भारतीय नहीं है। यहां सिर्फ भारतीय पर्यटक पाए जाते हैं।
चित्र स्त्रोत:-[2]

3. तुवालु:- पूर्व में एलिस द्वीप समूह के रूप में जाना जाने वाला, तुवालु ऑस्ट्रेलिया के उत्तर पूर्व में प्रशांत महासागर में स्थित है। यहां लगभग 10,000 निवासी हैं, जिनमें 8 किमी सड़कें हैं, और मुख्य द्वीप पर केवल 1 अस्पताल मौजूद है। यह देश कभी ब्रिटिश क्षेत्र था, लेकिन 1978 में स्वतंत्र हो गया। 2010 में, तुवालु में 2,000 से कम आगंतुक आए, जिनमें से 65% व्यवसाय के लिए आए। यह खूबसूरत द्वीप भी भारतीय लोगों से अनछुआ है।

रुकिए रुकिए इनके अलावा एक और देश है, जहां एक भी भारतीय नही रहता..!😂😂
वो देश है हमारा अपना पाकिस्तान..!🇵🇰
2018 के भारतीय विदेश मंत्रालय के डेटा के अनुसार पाकिस्तान में एक भी भारतीय नही रहता।

Comments