सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

दुनिया में ऐसे कितने देश हैं जहां एक भी भारतीय नहीं रहता

पूरी दुनिया मे कुल 195 देश हैं जिनमे से 193 देशों को संयुक्त राष्ट्र की मान्यता प्राप्त है। जिनमे से केवल तीन ही देश ऐसे हैं जिनमे एक भी भारतीय🇮🇳🇮🇳 नही हैं।
1-दुनिया का सबसे छोटा देश, वेटिकन सिटी, 0.44 वर्ग किमी (लगभग .2 वर्ग मील) पर है और यह पूरी तरह से रोम शहर से घिरा हुआ है। वेटिकन सिटी दुनिया भर में रोमन कैथोलिक धर्म के लाखों लोगों के लिए आध्यात्मिक केंद्र के रूप में कार्य करता है। आश्चर्य नहीं कि जनसंख्या में सबसे छोटा देश होने के कारण इसमें कोई भारतीय नहीं है। इसकी कुल जनसंख्या ही 1000 के करीब है।
चित्र स्त्रोत[1]

2. सैन मैरिनो (आधिकारिक तौर पर सैन मैरिनो गणराज्य) एक ऐसा सुव्यवस्थित देश है, जो इटली से घिरा हुआ है, यहां की आबादी लगभग 335620 है, इसमें कोई भी भारतीय नहीं है। यहां सिर्फ भारतीय पर्यटक पाए जाते हैं।
चित्र स्त्रोत:-[2]

3. तुवालु:- पूर्व में एलिस द्वीप समूह के रूप में जाना जाने वाला, तुवालु ऑस्ट्रेलिया के उत्तर पूर्व में प्रशांत महासागर में स्थित है। यहां लगभग 10,000 निवासी हैं, जिनमें 8 किमी सड़कें हैं, और मुख्य द्वीप पर केवल 1 अस्पताल मौजूद है। यह देश कभी ब्रिटिश क्षेत्र था, लेकिन 1978 में स्वतंत्र हो गया। 2010 में, तुवालु में 2,000 से कम आगंतुक आए, जिनमें से 65% व्यवसाय के लिए आए। यह खूबसूरत द्वीप भी भारतीय लोगों से अनछुआ है।

रुकिए रुकिए इनके अलावा एक और देश है, जहां एक भी भारतीय नही रहता..!😂😂
वो देश है हमारा अपना पाकिस्तान..!🇵🇰
2018 के भारतीय विदेश मंत्रालय के डेटा के अनुसार पाकिस्तान में एक भी भारतीय नही रहता।

Comments