हार्ट अटैक होने से पहले हमारे शरीर को ऐसे कौनसे संकेत मिलते हैं जिससे हम सावधान हो जाएं ! What are the signs heart attack

Anil Kumar Sharma,
हर्ट अटैक से मरने वाले अधिकतर लोगों को पहले से पता ही नहीं होता कि उन्हें दिल की बीमारी है, जबकि हर्ट अटैक से एक महीने पहले ही इसके लक्षण रोगी में दिखाई देने लगते हैं। अगर इन्हें समय रहते पता लिया गया तो रोगी का जान बचाई जा सकती है। आज हम आपको उन्हीं लक्षणों के बारे में बताने वाले हैं। थकान – अगर आप किसी भी तरह का वर्कआउट नहीं करते या फिर आपने कोई भी ऐसा काम नहीं किया जिसमें ज्यादा मेहनत लगी हो और ऐसे में भी आपको काफी थकान महसूस हो रही हो तो समझ लीजिए कि आपको हर्ट अटैक आ सकता है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। सांस लेने में दिक्कत – अगर आपको सांस लेने में दिक्कत आ रही हो तो यह भी हार्ट अटैक की निशानी हो सकती हो सकती है। दरअसल दिल के ठीक से काम न करने पर फेफड़ों तक उतनी मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता जितनी उसको जरूरत होती है। इस वजह से व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत आने लगती है। बाजुओं में दर्द होना – जब दिल को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती तो स्पाइन प्रभावित होने लगता है। इससे हार्ट, स्पाइन और बाजुओं से जुड़ी तंत्रिकाओं …

बादाम को भिगोकर खाना चाहिए या सूखे ही खाना चाहिए,दोनों में क्या अंतर है !




बादाम (Almonds) से मिलने वाली ताकत के बारे में ज्यादातर लोग जानते हैं, पर वे ये नहीं जानते कि इसे खाया कैसे जाए. इसका कारण है इसके सेवन से जुड़ी बातें.
कई लोग कहते हैं कि बादाम को भिगोकर खाना चाहिए, तो कई कहते हैं कि इसे सूखा खाने से भी उतने ही फायदे मिलते हैं जितने किसी और तरीके से.
आप कैसे खाते हैं बादाम? समझ में नहीं आ रहा...कोई बात नहीं, हम आपको इसके सभी पक्षों के बारे में बताते हैं.
सूखे बादाम
सबसे पहले बात करते हैं बिना भिगोए बादामों की यानी सूखे बादाम. आयुर्वेद बताता है कि ये बादाम, ऊतकों की मरम्मत करता है और स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है.
भीगे बादाम
बादाम में कई तरह के विटामिन, मिनरल्स पाए जाते हैं. इन सभी का पूरा फायदा मिले इसलिए बादाम को रातभर भिगोकर रखना अच्छा माना जाता है.
खाली पेट खा सकते हैं?
खाली पेट सूखे बादाम खाने से बचना चाहिए. इससे पित्त बढ़ता है, पाचन संबंधी समस्याएं हो जाती हैं.
सूखे या भीगे, कौन से बेहतर?
सूखे बादाम खाने पर इसके छिलकों को पचा पाना मुश्किल होता है. इससे खून में पित्त की मात्रा बढ़ती है. बादाम के छिलके में टैनिन होता है जो पोषक तत्वों को अवशोषित होने से रोकता है. जब बादाम को भिगोया जाता है तो उससे छिलका निकल जाता है और इसके सारे पोषक तत्व शरीर को मिल जाते हैं. भीगे बादाम पाचन में मददगार होते हैं, दिल की सेहत अच्छी रहती है. ये एंटी ऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं.
एक दिन में कितना खाएं?
ज्‍यादा मात्रा में बादाम खाने से स्किन संबंधी परेशानियां और पाचन क्रिया प्रभावित हो सकती है. इसलिए आप एक दिन में आठ से दस बादाम खा सकती हैं.
बादाम के फायदे
बादाम खाने के कई फायदे हैं. ये दिल को स्वस्थ रखने में सहायक है, पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है. ये बालों को स्‍वस्‍थ और मजबूत बनाने में सहायक है, स्मृति को बढ़ावा देने में मददगार है. इससे बैड कोलेस्‍ट्रॉल कम होता है.

Comments