सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

भारतीय हस्तियों के कुछ दुर्लभ चित्र ! Some rare pictures of Indian celebrities






  • बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत अभिनेत्री मधुबाला LIFE मैगज़ीन के साथ अपने फोटोशूट के लिए पोज़ करती हुईं।
  • अपने माता-पिता, पत्नी और भाई के साथ अमिताभ बच्चन जी।
  • जब अन्ना हजारे आर्मी मैन थे।
  • कपिल देव (क्रिकेटर) अपनी टीम के साथियों के साथ, ड्रेसिंग रूम में आनंद लेते हुए - 1994।
  • प्रथम भारतीय क्रिकेट टीम का इंग्लैंड दौरा - 1886।
  • पिछली बार जब नेताजी सुभाष चंद्र बोस (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी) को ब्रिटिश पुलिस ने पकड़ा था।
  • स्वतंत्रता सेनानी चंद्र शेखर आजाद (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी) को खुद को गोली मारने के बाद उनका मृत शरीर।
  • 1936 में पायलट लाइसेंस प्राप्त करने वाली पहली भारतीय महिला - सरला ठकराल, 21 साल की उम्र में।
  • सत्याग्रहिय ब्रिटिश शासन के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए।
  • 1857 में भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम में दो पुरुषों को अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया था।
  • भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू की एक दुर्लभ तस्वीर। 1949 में अमेरिका के प्रिंसटन (Princeton) में जीनियस वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन से मुलाकात करते हुए।
  • भारतीय क्रिकेटर सचिन, जहीर और सहवाग नाचते और पार्टी करते हुए।
  • भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद की सबसे दुर्लभ तस्वीर में से एक।
  • अमेरिका में स्वामी विवेकानंद और नरसिम्हाचार्य। अमेरिका में स्वामी विवेकानंद की सबसे दुर्लभ तस्वीरों में से एक तस्वीर।
  • सर सी.वी. रमन अपने सहयोगियों को रमन प्रभाव (Raman Effect) की व्याख्या करते हुए।
  • रवींद्रनाथ टैगोर (भारतीय कवि) 7 अगस्त 1940 को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी कन्वोकेशन (Oxford University Convocation) के बाद सर मौरिस ग्वियर (Sir Maurice Gwyer) और डॉ एस राधाकृष्णन के साथ सिन्हा सदन में।
  • इंदिरा गांधी (भारत की तीसरी प्रधानमंत्री), चार्ली चैपलिन और पं. जवाहरलाल नेहरू 1953 में बर्गेनस्टॉक, स्विट्जरलैंड (Bürgenstock, Switzerland) में।
  • शाहरुख खान और गौरी खान, उनके स्कूल के दिनों से।
  • एडॉल्फ हिटलर के साथ नेताजी सुभाष चंद्र बोस (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी)।
  • महात्मा गांधी की अंतिम तस्वीर।
  • दो महापुरुष - दो नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर (भारतीय कवि) और अल्बर्ट आइंस्टीन की बहुत दुर्लभ तस्वीर।
  • नरेंद्र मोदी अपने बचपन के दिनों से, एनसीसी वर्दी में।
  • आखिरी वाला - भगत सिंह (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी), सुखदेव (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी), राजगुरु (भारतीय स्वतंत्रता सेनानी) और अन्य की मौत की सजा का फैसला का पोस्टर (1930)।
"लाहौर षड़यंत्र केस जजमेंट:
सरदार भगत सिंह, श्रीमन राज गुरु, एम.सुख देव: फांसी की सजा
और दूसरी विभिन्न सजाओ के हुकनामे।
संपादित: टिप्पणियों के सुझावों के अनुसार, कैप्शन के कुछ स्वरूपण में बदलाव किया है और नामों में कुछ बदलाव किए।
संपादन 2: इतनी बड़ी प्रतिक्रिया देखकर, मैं कुछ और तस्वीरें जोड़ रहा हूँ:
  • युवा ए.पी.जे अब्दुल कलाम अपने कॉलेज के दिनों में।
  • 15 अगस्त, 1947 को भारत के पहले स्वतंत्रता दिवस पर नेहरू और माउंटबेटन की यह प्रतिष्ठित छवि।
  • स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह की आखिरी ज्ञात तस्वीर उनके शहीद होने से पहले।
  • 1972 में शिमला में इंदिरा गांधी, ज़ुल्फ़िकार भुट्टो और बेनज़ीर भुट्टो, जहाँ प्रसिद्ध शिमला समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • एक अज्ञात मित्र के साथ दक्षिण अफ्रीका में महात्मा गांधीजी। गांधीजी उस समय एक धनी वकील थे।
  • 1969 में IIT कानपुर में नारायण मूर्ति
  • भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 1994 में।

Comments