भारत के अलावा पांच देश है जो 15 अगस्त को अपनी आजादी के रूप में मनाते हैं ! five countries which celebrate 15 August as their independence.

प्रेम सिंह (Prem Singh)
भारत के अलावा ये 5 देश भी 15 अगस्त को मनाते हैं आजाद का जश्न देशवासी इस साल अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मनाने जा रहे हैं। अंग्रेजों की करीब 200 की गुलामी से मुक्ति मिले 72 साल पूरे हो जाएंगे। लेकिन शायद यह कम लोगों को ही पता होगा कि दुनिया के पांच देश ऐसे हैं जो 15 अगस्त को ही भारत के साथ अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। तो आइए जानते हैं भारत के अलावा और कौन से हैं ये देश- 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाने वाले देशों के नाम हैं- नॉर्थ कोरिया, साउथ कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन। दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया की आजादी दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया को आज से 74 साल पहले जापानी कॉलोनाइजेशन से 15 अगस्त 1945 में मुक्ति मिली थी। दक्षिण कोरिया और नॉर्थ कोरिया इस साल अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। रिपब्लिक ऑफ कांगो में स्वतंत्रता दिवस रिपब्लिक ऑफ कांगो मध्य अफ्रीकी देश है जिसे 15 अगस्त 1960 में आजादी मिली थी। इस प्रकार कांगो अपना 60 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लिकटेंस्टीन की आजादी का दिन 15 अगस्त यूरोपीय देश लिकटेंस्टीन को भी 15अगस्त के दिन आजादी …

कुछ किताबें हैं जिनसे दूर रहना चाहिए? अौर क्यों? Some books that should stay away from them? And why?



मैं यहाँ तीन किताबों का जिक्र करना चाहूंगी। खैर इन किताबों में ऐसी कोई बात नहीं है जिससे हमें शरमाना पड़ें लेकिन इन कहानियों की कथा और कहने का तरीका इतना ठोस है की अगर आप कच्चे दिल के हो तो शायद ही इन्हें पूरा कर पाओ।
१. स्नोफ्लॉवर एन्ड द सीक्रेट फैन
मूल चीनी अमेरिकन लेखिका ‘लिसा सी’ के द्वारा लिखी गई यह किताब, मैं कुछ पन्नों से आगे नहीं पढ़ पाई। यहाँ कहानीकार एक 'लीली' नामक लड़की है और यह कहानी चीन में यूनान प्रदेश के देहाती इलाकों में बसे एक परिवार की है। 'लाओतोंग' संबंध पर आधारित यह कहानी में दो बहनों के प्यार की परिभाषा बेहद खूबसूरती से लिखी गई है। लेकिन कहानी में एक भयानक शारीरिक दर्द का जिक्र है। चीन में १९वी सदी की स्त्रियों के लिए अभिशाप रूप 'फुट बाइंडिंग' की प्रक्रिया के दौरान दिखाया गया उनका हाल मेरे लिए असहनीय था। लेकिन कहानी इतनी जकड कर रखती है की जबरदस्ती खुद को संभाला मैंने और आगे नहीं पढ़ने का निश्चय किया।
२. सेंडकिंग
'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' के सुप्रसिद्ध लेखक ज्योर्ज आर आर मार्टिन के द्वारा लिखा गया एक लघु उपन्यास। जिसमे चींटीओ की सामूहिक इंटेलिजेंस की बात की गई है। यह कहानी को कई अवार्ड भी प्राप्त हुए है। 'साइमन क्रेस' नामक एक युवा लड़के को दोस्तों में नाम बनाने का भूत सवार हो जाता है और इसके लिए वह सारी हदें पार कर देता है। वैसे कहानी है 'फेंटसी फिक्शन' लेकिन मार्टिन जी ने लाजवाब तरीकों से हर प्लॉट को बुना है। कैसे चींटीओ को काबू में रखकर और आपस में लड़ाकर वह उनकी आर्मी बनाता है और यहीं आर्मी अंत में उस पर भारी पड़ जाती है।
३. द हैंडमेड'स टेल
'डिस्टोपियन फ्यूचर' पर आधारित यह कहानी की कथा न्यू-इंग्लैंड में घटी है, जिसमे 'जून' नामक बहुत कम बची हुई प्रजननक्षम स्त्रियों में से एक की जुबानी कहानी कही गई है। केनेडियन लेखिका मार्गरेट एटवुड के द्वारा लिखी गई यह कहानी अधिनायकवादी शासन के भयानक पहलू को दर्शाती है। जिसमे स्त्रियों का आपस में बातें करना, हँसना, अच्छा खाना खाना ( जैसे के केक और चॉकलेट ) और पढ़ना-लिखना सरकारी शासकों को मान्य नहीं है और ऐसा करना गुनाह माना जाता है और हर गुनाह की ( बाइबल के सबसे पहले टेस्टामेंट में लिखा गया है वैसे ) सख्त से सख्त सजा दी जाती है। लोगों को आये दिन फांसी लगती है। यह कहानी पुरुष प्रधान समाज के खोखले और बेहूदा अधिकारों के चलते समाज की हो रही दुर्दशा की चरमसीमा है।

Comments