सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

क्या भारतीय प्रधानमंत्री मोदी को अन्य देशों की यात्रा के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता है?



फिलहाल तो इस दुनिया में केवल एक ही व्यक्ति है जो बिना पासपोर्ट के अन्य देशों में कानूनी रूप से यात्रा कर रहा है और वह है क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय।
अब आते है प्रश्न पर। जी हाँ, जिस तरह एक आम नागरिक के पास विदेश जाने के लिए एक पासपोर्ट होना जरूरी है। उसी तरह हमारे देश के प्रधानमंत्री के पास भी विदेश जाने के लिए पासपोर्ट होना जरूरी है। लेकिन एक आम नागरिक के पासपोर्ट में और प्रधानमंत्री के पासपोर्ट मे सिर्फ यही एक अंतर है कि प्रधानमंत्री को विदेश यात्रा के दौरान किसी वीजा की जरूरत नही पड़ती है।
पीएम मोदी के पास टाइप 'डी' पासपोर्ट है - डी का मतलब 'डिप्लोमैटिक' है। डिप्लोमैटिक पासपोर्ट जो कि एक मैरून रंग के कवर का होता है। इस तरह का पासपोर्ट, भारतीय राजनयिकों, शीर्ष रैंकिंग सरकारी अधिकारियों को जारी किया जाता है।

Comments