महिलाएं पुरुषों के किन अंगों को देखकर आकर्षित होती हैं ! Which parts of men are attracted by women?

मनोज लालवानी (Manoj Lalwani),


बात महिलाओं की पसन्द की है तो बहुत सारे विकल्प होने ज़रूरी हो जाते हैं। क्योंकि चुनने के लिए कम विकल्प होने से अधिकांश महिलाएँ तनाव में आ जाती हैं। यह विकल्प, सौभाग्यवश, बहुतेरे और सशरीर मौजूद हैं। अगर पुरुष के अंगों का ज़िक्र होगा तो उनका शरीर अपने आप आएगा। सबसे पहले बात करते हैं पुरुष शरीर की। मगर उस से पहले बात करनी पड़ेगी महिला की चाह की। क्योंकि महिला की चाह पुरुष का विशेष अंग नहीं होता, बल्कि उनका अंग प्रत्यंग होता है। और सिर्फ़ अंग प्रत्यंग ही नहीं, उसके साथ ना जाने कितने और रंग ज़रूरी हैं। तो बात करते हैं पुरुषों के इन्हीं अंग-प्रत्यंग, रंग-ढंग की महिलायें, पुरुष की उस चीज़ की तरफ़ सबसे ज़्यादा खिंचाव महसूस करती हैं, जिस चीज़ की वो ख़ुद में कमी पाती हैं। वैसे यह सिद्धान्त हम सभी पर लागू होता है “हम उसी और खिंचे चले जाते हैं, जिस की हम ख़ुद के जीवन में कमी पाते हैं।” चूँकि बात यहाँ महिलाओं की है तो हम उन्ही की बात करते हैं। सबसे पहली कमी जो लगभग हर महिला को पुरुष की तुलना में खलती है। वो है “क़द” महिलाएँ ख़ुद से लम्बे पुरुषों की तरफ़ आकर्षित होती ह…

आसमान से हवाई जहाज़ या रॉकेट जैसी दिखने वाली चीज, जो गुज़रने के बाद, सफ़ेद सी लकीर दिखती है, वो क्या होती है


 

क्या आपने कभी स्पष्ट नीले आकाश में एक हवाई जहाज या रॉकेट को उड़ते देखा है? रॉकेट के गुज़रने के बाद वो आसमान की बनी सफ़ेद लकीर को हम बचपन में तो बड़े आश्चर्य से देखते थे. कोई उसे रॉकेट का धुआं मानता था, तो कोई बर्फ़ की लकीर, क्योंकि यह आकाश में एक सफेद लकीर को पीछे छोड़ देता है। पर ​हम में से शायद अब भी कोई जानता हो कि वो असलियत में होती क्या है।तो आइये इसके बारे में जानते है।
जो सफेद लकीरें हैं वे वास्तव में कृत्रिम बादल हैं। वे कांट्रेल्ज़ (contrails) कहलाते हैं, जो “ कॉंडेन्सेशन ट्रेल (condensation trail)" वाक्यांश का एक छोटा संस्करण है। हवाई जहाज के इंजन धुएं का उत्पादन करते हैं, जैसे कार इंजन करते हैं। जब गर्म धुआँ एक विमान से निकलता हैं तब धुएं में जल वाष्प, हवा से टकराती है। 26,000 फीट या उससे अधिक की ऊंचाई पर, हवा बेहद ठंडी होती है (कभी-कभी -40 ° F से भी अधिक!)। ठंडी हवा जल वाष्प को संघनित (Condensed) करती है।
इसका मतलब यह है कि जल वाष्प गैसें छोटी पानी की बूंदों में बदल जाती हैं या यहां तक ​​कि अंत में वाष्पीकरण से पहले छोटे बर्फ के क्रिस्टल में जम जाती हैं। यह संघनित जल वाष्प और बर्फ के क्रिस्टल के मिश्रण से आकाश में आपके द्वारा देखे जाने वाले बादल जैसे निशान बन जाते हैं।
कांट्रेल्ज़ (Contrails) तेज़ हवा की वजह से अपनी जगह से खिसक भी जाती है, ज़रूरी नहीं है कि वो वहीं दिखे जहां से जहाज़ गुज़रा था.

Comments