कंडोम के कुछ मज़ेदार उपयोग

जितेन्द्र प्रताप सिंह (Jitendra Pratap Singh)
कुछ साल पहले उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बहुत खुश हुआ जब बनारस के बुनकरों में मुफ्त में बांटे जाने वाले कंडोम की मांग खूब बढ़ गई। स्वास्थ्य विभाग यह सोच रहा था कंडोम बांटने से बुनकरों के जनसंख्या वृद्धि रुकेगी और कंडोम का सही इस्तेमाल होगा लेकिन जब पता चला कि बनारसी साड़ी बनाने वाले बुनकर मुफ्त में मिलने वाले कंडोम का इस्तेमाल साड़ी बनाने में कर रहे हैं तब ना सिर्फ उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बल्कि पूरी दुनिया चौक उठी थी साड़ी बनाने वाले बुनकर कंडोम का इस्तेमाल अपने करघा पर करते हैं. साड़ियाँ तैयार करने में इस्तेमाल हो रहे हैं कंडोम दरअसल कंडोम में चिकनाई युक्त पदार्थ होता है और करघा पर लगाने से उसके धागे तेज़ी से चलते हैं और उनमें चमक भी आ जाती है. क्योंकि कंडोम में प्राकृतिक रबड़ यानी लैक्टेस होता है इसलिए बुनकर बुनाई के पहले धागों को कंडोम से खूब रगड़ देते हैं जिससे धागे में इतनी अच्छी चिकनाई आ जाती है इस साड़ी की बुनाई करते समय धागा फसता नहीं है और बुनाई तेजी से होता है और साड़ियों में बहुत अच्छी प्राकृतिक चमक आ जात…

दुनिया की सबसे अनसुलझी रहस्यमयी घटनाएं ! Unsolved Mysteries Of World


 

6 इंच का छोटा नरकंकाल-
चिली में घोस्ट टाउन से मसहूर एक जगह है जहाँ एक 6 इंच का नर कंकाल पाया गया था। इस नरकंकाल के दांत पत्थर जैसे मजबूत थे।बहुत सारे रिसर्च के बाद यह मान लिया गया था वह कंकाल इंसान का ही था। लेकिन सवाल यह उठता है कि इतने छोटे इंसान के दांत कैसे हो सकते हैं। आज भी यह रहस्य अनसुलझा ही है।
आसमान से हुई ‘मीट के टुकड़ों’ की बारिश-
साल 1876 में बाथ कंट्री के रंकिन में अचानक से मीट के टुकड़ों की बारिश होने लगी थी। आसमान से मीट के टुकड़े गिरने लगे थे। नेवार्क साइंटिफिक एसोसिएशन ने इन टुकड़ों की जांच कर पाया कि ये टुकड़े घोड़े या किसी नवजात के हैं। लेकिन असलियत किसी को पता नहीं चल पाई।
एक ऐसा छेद जिसमें समा जाती है आधी नदी-
"द डेविल्स केटल" नाम से प्रसिद्द इस छेद में नदी का आधा पानी समा जाता है। लेकिन आज तक दुनिया का कोई भी वैज्ञानिक और विज्ञान यह पता कि यह पानी आखिर जाता कहाँ है?
तैराकी के दौरान गायब हो गए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री-
हेराल्ड होल्ड 22 महीने तक ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री रहे, उन्हें आखिरी बार चेवियट बीच पर देखा गया था. उस समय वो वहां तैराकी का आनंद ले रहे थे. लेकिन उसके बाद अचानक वो वहीँ से गायब हो गए उन्हें ढूंढने के लिए पुलिस, ऑस्ट्रेलियन नेवी डाइवर्स, एयर फाॅर्स हेलिकॉप्टर्स भी लगाए गए। लेकिन हेराल्ड का कोई निशान नहीं मिला।
1518 का ‘डांसिंग प्लेग’?
कहा जाता है कि 1518 में एल्सासे के स्ट्रासबर्ग में डांसिंग प्लेग फैला था। यह एक ऐसी बिमारी थी जिसमें लोग कई महीनों तक बिना रुके डांस करते रहे थे। इस दौरान कइयों की मौत हार्ट अटैक और स्ट्रोक्स की वजह से हो गई थी। इस प्लेग के रहस्य से कभी पर्दा नहीं हट पाया।

Comments