दुनिया की सबसे महंगी सब्जी | World Most Expensive Vegetable

दुनिया में कई तरह की सब्जियां हैं कुछ सब्जियां जो हम नॉर्मल लाइफ में रोजाना खाते हैं। लेकिन कुछ सब्जियां ऐसी हैं। जिसके दाम के बारे में सुनकर आप दंग रह जाएंगे। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी के बारे में। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से।
हॉप शूट्स।आपको बता दें की ये सब्जी दुनिया की सबसे महंगी सब्जी हैं। आमतौर पर यह सब्जी 1000 यूरो प्रति किलो बिकती है यानी भारतीय रुपये में कहें तो इसकी कीमत 80 हजार रुपये किलो के आसपास है। इसे खरीद पाना नॉर्मल इंसान के बस में नहीं हैं।आपको बता दें की इस हॉप का इस्तेमाल जड़ी-बूटी के तौर पर भी किया जाता है। सदियों से इसका इस्तेमाल दांत के दर्द को दूर करने से लेकर टीबी के इलाज तक में होता रहा है। हॉप में ऐंटीबायॉटिक की प्रॉपर्टी पाई जाती है जो इंसान के हेल्थ के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इससे शरीर की कई बीमारियां दूर हो जाती हैं और इंसान खुद को सेहतमंद महसूस करता हैं।यह सदाबहार सब्जी है जो साल भर उगाई जा सकती है। लेकिन ठंडी के मौसम को इसके लिए ठीक नहीं माना जाता है। मार्च से लेकर जून तक इसकी खेती के लिए आदर्श समय मान…

कुछ श्रेष्ठ मनोवैज्ञानिक तथ्य क्या हैं?


 

पेश हैं दिमाग़ की खिड़कियां खोल देने वाले अविश्वसनीय बीस मनोवैज्ञानिक तथ्य -
1. टूटे हुए दिल के साथ मरना मुमकिन है. इसे Stress Cardiomyopathy कहते हैं.
2. अक़्लमंद व्यक्ति किसी भी रिश्ते में ज़्यादा वफादार रहता है.
3. हम में से ज़्यादातर लोग Phantom Vibration Syndrome (फ़़ोन Vibrate नहीं होता फिर भी लगता है कि Vibrate हो रहा है) से ग्रसित होते हैं.
4. किसी भी व्यक्ति को सिर्फ़ चार मिनट में प्यार हो सकता है.
5. दुनिया की दस प्रतिशत आबादी Left-Handed है.
6. भारत में पांच में से एक व्यक्ति अवसाद ग्रसित है.
7. सृजनात्मक लोग आसानी से बोर हो जाते हैं.
8. अपने से कम उम्र की महिलाओं से बात करने से पुरुषों का मानसिक स्वास्थ्य सुदृढ़ होता है.
9. चॉकलेट खाने से तनाव कम होता है.
10. जो आपको जितनी अच्छी सलाह देता, है वो ख़ुद बेहद बड़ी समस्या में होता है.
11. अगर कोई काफ़ी ज़्यादा सोता है तो इसका मतलब वो किसी बात से दुखी है.
12. जिस गाने से हम भावनात्मक तौर पर जुड़ाव महसूस करते हैं, वो हमारा पसंदीदा गाना बन जाता है.
13. हम जिनसे प्यार करते हैं, उन्हें आसानी से माफ़ कर देते हैं.
14. दस से उन्नतीस उम्र वर्ग के नब्बे प्रतिशत लोग फ़ोन के साथ सोते हैं.
15. अपने वक़्त का तीस प्रतिशत हिस्सा हम खुली आंखों से सपने देखने में बिताते हैं.
16. जब हम व्यस्त रहते हैं तो ज़्यादा ख़ुश रहते हैं.
17. वक़्त के साथ हमारी यादें भी बदल जाती हैं.
18. किसी भी चीज़ की आदत होने में कम से कम छियासठ दिन लगते हैं.
19. हम दस मिनट से ज़्यादा किसी भी चीज़ पर ध्यान नहीं दे सकते.
20. ज़्यादातर लोग परिस्थिती के बजाए दूसरे लोगों पर इल्ज़ाम लगाते हैं.

Comments