रोचक बातें कुछ मजेदार तथ्य, जो सच में रोचक हैं ! Some Of Really Interesting Facts in Hindi

पहली “Smiley” 1982 में प्रयोग की गई थी। फूलों को यदि संगीत सुनाया जाए तो वे जल्दी बढ़ते हैं। यदि शनि ग्रह को बड़े से बाथ टब में रखा जाए तो वह तैरने लगेगा। जब “Apollo 11” लैंड हुआ तो उसमें सिर्फ 20 second का फ्यूल बचा था. रबर के अविष्कार से पहले, पेंसिल से लिखे हुए को ब्रेड से मिटाते थे। किताबों की सबसे पुरानी दुकान “Portugal” में हैं। फ्लोरिडा राज्य पूरे इंग्लैंड से बड़ा हैं। कुत्ते उस आवाज को भी सुन सकते हैं, जिन्हें आदमी के कान नही पकड़ सकते। एक वायलिन को बनाने में 70 अलग-अलग तरह की लकड़ी लगती हैं। 16 December 1811, को इतना तेज भूकंप आया कि मिसीसिपी नदी उल्टी बहने लगी। “Nomophobia” उस डर को कहते हैं जब तुम्हारे पास मोबाइल नही होता। हर 7 साल में हम

अपने आधे से ज्यादा पुराने दोस्तों को छोड़कर नए दोस्त बना लेते हैं। हाथ मिलाने से अच्छा तो किस करना हैं अगर तुम जुकाम से बचना चाहते हो। SIRI को बोला गया हर एक शब्द Apple स्टोर करता हैं। Nike कंपनी का स्लोगन “Just Do It” किसी आदमी को फाँसी देते समय अंतिम शब्दों से प्रेरित हैं। HP Printer की काली स्याही खून से ज्यादा महंगी हैं। जापान के एक र…

Facebook ने बदल दी है पॉलिसी, मैसेज में कुछ भी भेजने से पहले यह रिपोर्ट पढ़ें





अगर आपको भी दंगा भड़काने और उल्टे-सीधे मैसेज फेसबुक पर भेजने की आदत है तो सावधान हो जाइए। डाटा लीक होने के बाद से ही Facebook लगातार अपनी पॉलिसी का रिव्यू कर रहा है। पहले कंपनी ने फेसबुक ऐप में प्राइवेसी के लिए अलग से एक बटन दिया और वहीं अब कंपनी ने कहा है कि वह फेसबुक मैसेंजर में शेयर होने वाले सभी मैसेज को स्कैन करेगी और अगर कुछ आपत्तिजनक या कंपनी के नियमों के खिलाफ पाया जाता है तो उसे ब्लॉक किया जाएगा।

मार्क जुकरबर्ग ने इसकी जानकारी हाल ही में एक इंटरव्यू में दी है। उन्होंने कहा कि फेसबुक उन लोगों को ट्रैक करेगा जो सनसनी फैलाने वाले मैसेज या कंटेंट को फेसबुक मैसेंजर में भेजते हैं।वहीं ट्वीटर पर कुछ लोगों ने फेसबुक के इस नियम पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इसका मतलब यह है कि फेसबुक मैसेज को पढ़ेगा।

इस पर फेसबुक ने कहा है कि कंपनी मैसेज को इस्तेमाल विज्ञापन के लिए नहीं करेगी, बल्कि उसका मकसद सिर्फ आपत्तिजनक सामग्री को फैलने से रोकना है। दरअसल मैसेजेंर में शेयर वाले फोटो और वीडियो को कंपनी फोटो मैचिंग टेक्नोलॉजी की मदद से स्कैन करेगा ताकि वायरस और आपत्तिजनक कंटेंंट पर रोक लगाई जा सके।

Comments