भारत के अलावा पांच देश है जो 15 अगस्त को अपनी आजादी के रूप में मनाते हैं ! five countries which celebrate 15 August as their independence.

प्रेम सिंह (Prem Singh)
भारत के अलावा ये 5 देश भी 15 अगस्त को मनाते हैं आजाद का जश्न देशवासी इस साल अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मनाने जा रहे हैं। अंग्रेजों की करीब 200 की गुलामी से मुक्ति मिले 72 साल पूरे हो जाएंगे। लेकिन शायद यह कम लोगों को ही पता होगा कि दुनिया के पांच देश ऐसे हैं जो 15 अगस्त को ही भारत के साथ अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। तो आइए जानते हैं भारत के अलावा और कौन से हैं ये देश- 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाने वाले देशों के नाम हैं- नॉर्थ कोरिया, साउथ कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन। दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया की आजादी दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया को आज से 74 साल पहले जापानी कॉलोनाइजेशन से 15 अगस्त 1945 में मुक्ति मिली थी। दक्षिण कोरिया और नॉर्थ कोरिया इस साल अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। रिपब्लिक ऑफ कांगो में स्वतंत्रता दिवस रिपब्लिक ऑफ कांगो मध्य अफ्रीकी देश है जिसे 15 अगस्त 1960 में आजादी मिली थी। इस प्रकार कांगो अपना 60 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लिकटेंस्टीन की आजादी का दिन 15 अगस्त यूरोपीय देश लिकटेंस्टीन को भी 15अगस्त के दिन आजादी …

Facebook ने बदल दी है पॉलिसी, मैसेज में कुछ भी भेजने से पहले यह रिपोर्ट पढ़ें





अगर आपको भी दंगा भड़काने और उल्टे-सीधे मैसेज फेसबुक पर भेजने की आदत है तो सावधान हो जाइए। डाटा लीक होने के बाद से ही Facebook लगातार अपनी पॉलिसी का रिव्यू कर रहा है। पहले कंपनी ने फेसबुक ऐप में प्राइवेसी के लिए अलग से एक बटन दिया और वहीं अब कंपनी ने कहा है कि वह फेसबुक मैसेंजर में शेयर होने वाले सभी मैसेज को स्कैन करेगी और अगर कुछ आपत्तिजनक या कंपनी के नियमों के खिलाफ पाया जाता है तो उसे ब्लॉक किया जाएगा।

मार्क जुकरबर्ग ने इसकी जानकारी हाल ही में एक इंटरव्यू में दी है। उन्होंने कहा कि फेसबुक उन लोगों को ट्रैक करेगा जो सनसनी फैलाने वाले मैसेज या कंटेंट को फेसबुक मैसेंजर में भेजते हैं।वहीं ट्वीटर पर कुछ लोगों ने फेसबुक के इस नियम पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इसका मतलब यह है कि फेसबुक मैसेज को पढ़ेगा।

इस पर फेसबुक ने कहा है कि कंपनी मैसेज को इस्तेमाल विज्ञापन के लिए नहीं करेगी, बल्कि उसका मकसद सिर्फ आपत्तिजनक सामग्री को फैलने से रोकना है। दरअसल मैसेजेंर में शेयर वाले फोटो और वीडियो को कंपनी फोटो मैचिंग टेक्नोलॉजी की मदद से स्कैन करेगा ताकि वायरस और आपत्तिजनक कंटेंंट पर रोक लगाई जा सके।

Comments