पुरुष लिंग के बारे में चार रोचक तथ्य ! Interesting Facts About Male Gender

अभय गुप्ता (Abhay Gupta)

हर पुरुष और स्त्री के अंदर एक गुप्तांग होता है जिसे सामान्यतः हम लिंग के नाम से जानते हैं। स्त्री के अंदर मौजूद गुप्तांग को योनि और पुरुष के अंदर मौजूद गुप्तांग को लिंग कहते हैं। सेक्स के दौरान जब इन दोनों गुप्तांगों का मिलन होता है तो इससे ही स्त्री का गर्भ ठहर जाता है और वो माँ बन जाती है। आज हम आपको लिंग के बारे में हैरान कर देने वाली बातों को बताएंगे तो ध्यान से इस पोस्ट को पढ़ते रहें। 1. हर देश के लोगों का लिंग एक समान नही होता। किसी का लिंग मोटा और लम्बा होता है तो किसी का लिंग छोटा और पतला। अफ्रीकी देशों के लोगों का लिंग एशिया देशों के लोगों के लिंग से काफी लंबा और मोटा होता है जबकि एशिया देशों के लोगों का लिंग अफ्रीकी देशो के लोगों के लिंग से छोटा और पतला होता है। 2. लिंग की नॉर्मल लंबाई 6 से 13 सेंटी मीटर तक होती है जबकि तनाव की स्थिति में यह 7 से 17 सेंटी मीटर तक हो जाती है। 3. लम्बे लिंग के मुकाबले छोटा लिंग अधिकतर तने होने के कारण ज्यादा लंबा हो जाता है। 4. लिंग का साइज वंश और नश्ल पर भी निर्भर करता है।

गलती से न जलाएं अगरबत्ती ,घर में हो सकता है ये विनाशकारी असर





हिन्दू धर्म में हर संकट है निवारण हम पूजा पाठ को मानते है हम देवी देवताओ खुश करने के लिए आरती में धूप दीप और अगरबत्ती जलाते है। इससे सुगंध होते है। लेकिन शायद ही आप लोगो को इस बात की जानकारी होगी कि पूजा-पाठ के दौरान धूप का प्रयोग करना तो उचित है, और सबसे हैरान तो आप तब होंगे जब आपको ये पता चलेगा, की अगरबत्ती का प्रयोग करना बहुत अशुभ होता है।



शास्त्रों में कहा गया है कि भगवान की पूजा में कभी भी अगरबत्ती नही जलानी चाहिए। आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्यों, तो आपको बताते है कि आखिर इसके पीछे क्या कारण है। हिन्दू जब दाह संस्कार जैसे कर्म में भी बांस की लकडी नही जलाते तो फिर क्यों अगरबत्ती के माध्यम से इस लकडी को जलाए। यदि आपको ईश्वर की पूजा में सुगंध ही करनी है तो आप धूप बत्ती का प्रयोग कर सकते है। शास्त्र में भी बताया गया है की कभी बांस की लकडी नही जलानी चाहिए। 




पूजा में क्यों मना है अगरबत्ती इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी है वैज्ञानिको के अनुसार भी जब अगरबत्ती को जलाया जाता है तब उसमे लगा बांस जलने लगता है। इसके जलने से एक गैस निकलती है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

Comments