आखिर क्यों मच्छर झुंड में सिर पर मंडराते हैं ! Why the mosquitoes roam on the head

अभिषेक सिंह (Abhishek Singh)
ऐसा हमने जरूर बचपन मे देखा होगा और सोचा भी होगा की आखिर क्यों ऐसा मेरे साथ हो रहा है। सबसे अजीब बात ये की उस जगह से भागने पर भी वापस सिर पर मंडराने लगते थे। लेकिन शायद ही अब कोई ध्यान देता हो, मगर ऐसा अभी भी होता ही हैं कि मच्छर आपके सिर पर कई बार मंडराते हैं। ऐसी आदत न केवल मच्छरों है कि होती है बल्कि अन्य मक्खियों और कीड़े भी ऐसा करते हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं। यदि यह मादा मच्छर है, तो यह आपके सिर पर मंडराती है क्योंकि यह कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य पदार्थों (पसीना, गंध और गर्मी सहित) में रुचि रखता है जिसे आप लगातार निकालतेे हैं। उनके एंटीना पर सेंसर लगे होते हैं जो इन चीजों का पता लगाते हैं और भोजन के स्रोत का पता लगाने में उनकी मदद करते हैं। मच्छर विशेष रूप से ऑक्टेनॉल (मानव पसीने में पाया जाने वाला एक रसायन) के शौकीन हैं, इसलिए यदि आपको बहुत पसीना आ रहा होता हैं, तो आप इनके आसान लक्ष्य बन जाते हैं। कभी-कभी, आपने देखा होगा कि बगीचे में अपने दोस्तों से बात करते समय, मच्छरों का झुंड विशेष रूप से आपके सिर के ऊपर मंडरा रहा होता है और दूसरो…

Mysterious Stone Eggs Mountain !! चट्टान देती है हर 30 साल में अंडे, वैज...

एक ऐसा चट्टान जो देती है अंडे, वैज्ञानिक भी हैं परेशान



ये तो सबको पता है कि मुर्गी, कबूतर, चिड़िया, साँप, छिपकली जैसे जीव अंडे देते हैं लेकिन अगर हम आपसे कहें कि चीन में एक ऐसी चट्टान है जो अंडे देती है तो क्या आप विश्वास करेंगे शायद नहीं लेकिन ये बात सच है कि चीन में एक ऐसी चट्टान है जो हर 30 साल में अंडा रूपी पत्थर देती है. जिसको लेकर कई साइंटिस्ट भी परेशान हैं.


वहां के रहने वाले लोग बताते हैं कि वो भी इसे देखकर आश्चर्यचकित हैं. कुछ लोगों ने देखा है कि ये चिकने अंडे पहले तो एक कवच में होते हैं और चट्टान इनको सेती है और कुछ दिन बाद ये अंडे अपने आप ज़मीन पर गिर जाते हैं.


ये चट्टान चीन के दक्षिण-पश्चिमी में प्रांत Qiannan Buyei और Miao Autonomou क्षेत्रों में स्थित है. ये चट्टान 20 मीटर (लगभग 65 फ़ीट) लम्बी और 6 मीटर (लगभग 19 फ़ीट) ऊंची है. “चन दान या” नाम की ये चट्टान चीन में स्थित है और ये पत्थर रुपी अंडे देती है इसलिए इसे ‘Egg-producing Cliff’ भी कहा जाता है. इसने वैज्ञानिकों को परेशान कर रखा है.
ये चट्टान हर 30 साल में पत्थर देती है. ये पत्थर बहुत ही चिकने होते है. जब ये पत्थर जमीं पर गिरते हैं तब गांववाले इन पत्थरों को घर ले जाते हैं उनका मानना है कि ये पत्थर उनके जीवन में खुशहाली ले कर आएगें.


ये चट्टान 500 मिलियन साल पहले बनी थी. ये एक काली और ठंडी चट्टान है. जो कई क्षेत्रों में आमतौर पर मिल जाती है. विशेषज्ञों के अनुसार जैसे-जैसे मौसम और पर्यावरण में समय-समय पर बदलाव होते रहे हैं, इन चट्टानों को भी कभी उच्च तापमान तो कभी बेहद ठंडा मौसम झेलना पड़ता है जिस कारण इनकी संरचना और तत्वों में भी बदलाव होता है. यही वजह है कि इनमें कई तरह की आकृति उभर आती हैं. अभी इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है कि इस चट्टान पर ये एकदम अंडाकार और चिकनी आकृतियां कैसे बनती हैं.


वैज्ञानिकों का मानना है कि गांववाले इस पत्थर को अपना गुड लक मान कर घर ले जाते है फिलहाल 70 पत्थरों को बचाया जा सका है.











Comments