क्यों बनाई जाती हैं मां दुर्गा की मूर्ति वेश्‍यालय की मिट्टी से?

विनय गोस्वामी (Vinay Goswami),
जी हाँ, ये बात न केवल सत्य है बल्कि इसके पीछे बहुत ही गहराई पूर्ण उद्देश्य भी है। यों तो दुर्गा पूजा या दुर्गा उत्सव सम्पूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाने वाला त्योहार है लेकिन इसकी शुरआत पश्चिम बंगाल से हुई थी। यह त्योहार पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार है जिसमे बड़े बड़े पंडाल सजाकर उनमे मां दुर्गा की प्रतिमा की पूजा की जाती है। कलकत्ता का एक खास इलाका पूजा की मूर्तियों के निर्माण और निर्माण करने वाले कारीगरों के लिये पूरे भारत मे प्रसिद्ध है। विधि विधान से मां दुर्गा की मूर्ति बनाने की जो परंपरा सदियों से चली आ रही है उसके अनुसार जिस मिट्टी से प्रतिमा तैयार की जाती है उस मिट्टी में थोड़ी मिट्टी पवित्र गंगा के किनारे से, थोड़ी सी मिट्टी वेश्याओं के आंगन से और कुछ गौमूत्र और गोबर, इन सब को मिलाया जाता है। इसमे जो बात अनजान लोगों को अचम्भित करती है वो ये हां की इतनी पवित्र मूर्तियों मे वेश्याओं के आंगन की मिट्टी भला क्यों मिलाई जाती है ? यों तो इसके पीछे कई किंवदंतिया मशहूर है जिनमे से एक यह भी है कि- एक दफा एक वेश्या ने मां दुर्गा की अनन्य भक्ति की …

दुनिया का सबसे अनोखा पेड़ ! World's most unique tree



मंचीनील,जिसका मतलब होता है -'मौत का सेब'
मंचीनील दुनिया का सबसे जहरीला पौधा है। इसकी पत्तियां इतनी जहरीली होती हैं कि अगर आप बारिश के दौरान इसके नीचे खड़े होते हैं, तो आपकी त्वचा पर छाले पड़ जाएंगे, क्योंकि बारिश की बूंदें पत्तियों के संपर्क से विषाक्त हो जाती हैं।
स्पेनिश खोजकर्ता और उपनिवेशवादी जुआन पोंस डी लियोन की मौत मंचीनील के जहरीले रस लगे तीर से ही हुई थी। यह रस इतना असरदार है कि यह कार के पेंट को आसानी से गला सकता है। इस पौधे में कई असाधारण विष होते हैं, जिनमें से कुछ की पहचान अभी तक नहीं हो सकी है।
मंचीनील के पेड़ को छूने, और यहां तक कि इसके आसपास सांस लेने तक की इजाजत नहीं दी जाती है।
फ्लोरिडा में ये पेड़ जहां उगते हैं, इस बारे में पेड़ो पर स्पष्ट चेतावनी लिखी होती है।
प्रायः जहरीले फल कड़वे होते हैं, जो कि कुतरने वाले प्राणियों के लिए एक तरह का चेतावनी होती है, जबकि मंचीनील के मामले में ऐसा नहीं है। इसका स्वाद शुरू में मीठा और स्वादिष्ट होता है। उसके बाद यह तीखी मिर्च जैसा स्वाद देने लगता है। तब शरीर मे जलन शुरू हो जाती है और सांस नली बंद होने लगती है। फल खाने से जठरांत्र शोथ हो जाता है और साथ ही आंतों में रक्तस्राव होने लगता है। इसके अलावा नसों की झनझनाहट, बैक्टीरियल सुपरिनफेक्शन, एडिमा आदि हो जाता है, जो श्वसन प्रणाली को पूर्णतः बंद कर देता है।
यह अचरज वाली बात नहीं है कि मंचीनील एक संकटग्रस्त वनस्पति प्रजाति है। आखिर कौन ऐसे पौधे को अपने आसपास उगता देखना चाहेगा?! मंचीनील के पौधे को नष्ट करते समय बस एक बात का ध्यान रखना जरूरी है - इसे जलाने की कोशिश कभी भूल से भी न करें। आपने समझ गए होंगे, इसका धुआं भी जहरीला होता है।

Comments