हार्ट अटैक होने से पहले हमारे शरीर को ऐसे कौनसे संकेत मिलते हैं जिससे हम सावधान हो जाएं ! What are the signs heart attack

Anil Kumar Sharma,
हर्ट अटैक से मरने वाले अधिकतर लोगों को पहले से पता ही नहीं होता कि उन्हें दिल की बीमारी है, जबकि हर्ट अटैक से एक महीने पहले ही इसके लक्षण रोगी में दिखाई देने लगते हैं। अगर इन्हें समय रहते पता लिया गया तो रोगी का जान बचाई जा सकती है। आज हम आपको उन्हीं लक्षणों के बारे में बताने वाले हैं। थकान – अगर आप किसी भी तरह का वर्कआउट नहीं करते या फिर आपने कोई भी ऐसा काम नहीं किया जिसमें ज्यादा मेहनत लगी हो और ऐसे में भी आपको काफी थकान महसूस हो रही हो तो समझ लीजिए कि आपको हर्ट अटैक आ सकता है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। सांस लेने में दिक्कत – अगर आपको सांस लेने में दिक्कत आ रही हो तो यह भी हार्ट अटैक की निशानी हो सकती हो सकती है। दरअसल दिल के ठीक से काम न करने पर फेफड़ों तक उतनी मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता जितनी उसको जरूरत होती है। इस वजह से व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत आने लगती है। बाजुओं में दर्द होना – जब दिल को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती तो स्पाइन प्रभावित होने लगता है। इससे हार्ट, स्पाइन और बाजुओं से जुड़ी तंत्रिकाओं …

दुनिया में ऐसे कितने देश हैं जहां एक भी भारतीय नहीं रहता

पूरी दुनिया मे कुल 195 देश हैं जिनमे से 193 देशों को संयुक्त राष्ट्र की मान्यता प्राप्त है। जिनमे से केवल तीन ही देश ऐसे हैं जिनमे एक भी भारतीय🇮🇳🇮🇳 नही हैं।
1-दुनिया का सबसे छोटा देश, वेटिकन सिटी, 0.44 वर्ग किमी (लगभग .2 वर्ग मील) पर है और यह पूरी तरह से रोम शहर से घिरा हुआ है। वेटिकन सिटी दुनिया भर में रोमन कैथोलिक धर्म के लाखों लोगों के लिए आध्यात्मिक केंद्र के रूप में कार्य करता है। आश्चर्य नहीं कि जनसंख्या में सबसे छोटा देश होने के कारण इसमें कोई भारतीय नहीं है। इसकी कुल जनसंख्या ही 1000 के करीब है।
चित्र स्त्रोत[1]

2. सैन मैरिनो (आधिकारिक तौर पर सैन मैरिनो गणराज्य) एक ऐसा सुव्यवस्थित देश है, जो इटली से घिरा हुआ है, यहां की आबादी लगभग 335620 है, इसमें कोई भी भारतीय नहीं है। यहां सिर्फ भारतीय पर्यटक पाए जाते हैं।
चित्र स्त्रोत:-[2]

3. तुवालु:- पूर्व में एलिस द्वीप समूह के रूप में जाना जाने वाला, तुवालु ऑस्ट्रेलिया के उत्तर पूर्व में प्रशांत महासागर में स्थित है। यहां लगभग 10,000 निवासी हैं, जिनमें 8 किमी सड़कें हैं, और मुख्य द्वीप पर केवल 1 अस्पताल मौजूद है। यह देश कभी ब्रिटिश क्षेत्र था, लेकिन 1978 में स्वतंत्र हो गया। 2010 में, तुवालु में 2,000 से कम आगंतुक आए, जिनमें से 65% व्यवसाय के लिए आए। यह खूबसूरत द्वीप भी भारतीय लोगों से अनछुआ है।

रुकिए रुकिए इनके अलावा एक और देश है, जहां एक भी भारतीय नही रहता..!😂😂
वो देश है हमारा अपना पाकिस्तान..!🇵🇰
2018 के भारतीय विदेश मंत्रालय के डेटा के अनुसार पाकिस्तान में एक भी भारतीय नही रहता।

Comments