सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

बादाम को भिगोकर खाना चाहिए या सूखे ही खाना चाहिए,दोनों में क्या अंतर है !




बादाम (Almonds) से मिलने वाली ताकत के बारे में ज्यादातर लोग जानते हैं, पर वे ये नहीं जानते कि इसे खाया कैसे जाए. इसका कारण है इसके सेवन से जुड़ी बातें.
कई लोग कहते हैं कि बादाम को भिगोकर खाना चाहिए, तो कई कहते हैं कि इसे सूखा खाने से भी उतने ही फायदे मिलते हैं जितने किसी और तरीके से.
आप कैसे खाते हैं बादाम? समझ में नहीं आ रहा...कोई बात नहीं, हम आपको इसके सभी पक्षों के बारे में बताते हैं.
सूखे बादाम
सबसे पहले बात करते हैं बिना भिगोए बादामों की यानी सूखे बादाम. आयुर्वेद बताता है कि ये बादाम, ऊतकों की मरम्मत करता है और स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है.
भीगे बादाम
बादाम में कई तरह के विटामिन, मिनरल्स पाए जाते हैं. इन सभी का पूरा फायदा मिले इसलिए बादाम को रातभर भिगोकर रखना अच्छा माना जाता है.
खाली पेट खा सकते हैं?
खाली पेट सूखे बादाम खाने से बचना चाहिए. इससे पित्त बढ़ता है, पाचन संबंधी समस्याएं हो जाती हैं.
सूखे या भीगे, कौन से बेहतर?
सूखे बादाम खाने पर इसके छिलकों को पचा पाना मुश्किल होता है. इससे खून में पित्त की मात्रा बढ़ती है. बादाम के छिलके में टैनिन होता है जो पोषक तत्वों को अवशोषित होने से रोकता है. जब बादाम को भिगोया जाता है तो उससे छिलका निकल जाता है और इसके सारे पोषक तत्व शरीर को मिल जाते हैं. भीगे बादाम पाचन में मददगार होते हैं, दिल की सेहत अच्छी रहती है. ये एंटी ऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं.
एक दिन में कितना खाएं?
ज्‍यादा मात्रा में बादाम खाने से स्किन संबंधी परेशानियां और पाचन क्रिया प्रभावित हो सकती है. इसलिए आप एक दिन में आठ से दस बादाम खा सकती हैं.
बादाम के फायदे
बादाम खाने के कई फायदे हैं. ये दिल को स्वस्थ रखने में सहायक है, पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है. ये बालों को स्‍वस्‍थ और मजबूत बनाने में सहायक है, स्मृति को बढ़ावा देने में मददगार है. इससे बैड कोलेस्‍ट्रॉल कम होता है.

Comments