सैटेलाइट फोन क्या है? क्यों यह बहुत महंगा है?

सैटेलाइट फोन….. 'सैटेलाइट फोन को सेटफोन के नाम से भी जाना जाता है,ये हमारे फोन्स की तुलना में अलग होते हैं। क्योंकि यह लैंडलाइन या सेल्युलर टावरों की बजाय सैटेलाइट (उपग्रहों ) से सिग्नल प्राप्त करते हैं'। ( चित्र सैटेलाइटफोन ) इनकी खास बात यह होती है कि इनके द्वारा किसी भी स्थान से काॅल किया जा सकता है। यह हर जगह उपयोगी साबित होते हैं चाहे आप सहारा मरुस्थल में ही क्यों न हों। कहा तो यह भी जाता है कि यह पानी के अंदर भी आसानी से सिग्नल प्राप्त कर सकने में समर्थ होते हैं। सेटेलाइट फोन बस थोड़ा स्लो होते हैं (हमारे मोबाइल फोन के मुकाबले) यानी बातचीत के दौरान इसमें थोड़ी सी अड़चनों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इनके द्वारा भेजे गए सिग्लन को सेटेलाइट तक जाने और वहां से वापस लौट कर आने में ज्यादा समय लगता है।हालांकि यह कमी बहुत ही नगण्य है। यह ज्यादातर आपदाओं के समय हमे काफी सहायक सिद्ध होते जब हमारे सिस्टम बहुत हद तक ख़राब हो गये होते हैं। क्या हम सेटेलाइट फोन खरीद सकते हैं….. भारत में सैटेलाइट फोन खरीदने के लिए विशेष कानून बनाए गए हैं भारत ही नहीं हर देश में इसके लिए अलग…

ঢেউ By-পলি ঘোষ ! Bangla Kobita

ঢেউ 

পলি ঘোষ 



চলতি পথের অচেনা ভীড়ে ।
দেখিনি যাদের আগে ,
তাদের মাঝে ও দেখি আমি 
কিছু চেনা মানুষ। 
আমার প্রিয় কাব্যখানি জুড়ে, 
লিখছি পাতায় যাকে খুঁজছি অহর্নিশ, 
আমার প্রেমের স্মৃতিরা আজ ভস্ম, 
বৃথাই খুঁড়ি স্মৃতির কবর, 
শূন্য বুকের পাঁজর 
কলম শুধুই গুমরে মরে 
করুন হাসি মুখে, 
ক্ষয়ে যায় অন্তরের শিলালিপি 
স্মৃতির ভারেই নুয়ে পরে জল  ।
চেনা অচেনার ভুল অঙ্কে 
একটু আধটু হলেও ঠিক 
মুচকে হাসি আমার ভাগ্য দেখে, 
ভীড়ে যাওয়া স্বপ্নগুলো, 
পর্ন মোচীর দলে, 
ঝরিয়ে দিল অকাল শ্রাবন, 
বাঁচার গল্প বলে। 
খুঁজতে গিয়ে নতুন ভোরে, 
ভুলতে চায় মন যাকে, 
অন্ধকারে হাতড়ে জীবন, 
ফিরে পেলনা সেই রাথটাকেই। 
-----------------------------------------------------------------------

Comments