हवाई जहाज के बारे में कुछ रोचक तथ्य ! Some interesting facts about airplanes

Abhijit Nimse


1. हवाई जहाजों (Aeroplane) को इस तरह डिजाइन किया जाता है कि इनपर आसमानी बिजली गिरने का भी असर नहीं होता। 2. साल में एक बार हर हवाई जहाज पर आसमानी बिजली जरूर गिरती है लेकिन 1963 के बाद से जहाजों पर बिजली गिरने से एक भी हादसा नहीं हुआ है। 3. हवाई जहाज में पीछे की बीचों बीच वाली सीट सबसे ज्यादा सुरक्षित होती है यानि प्लेन हादसे के दौरान केवल यही सीट सबसे ज्यादा सेफ होती है। 4. कुछ हवाई जहाजों में सीक्रेट बेडरूम भी होते हैं जहाँ प्लेन के कर्मचारी आराम कर सकते हैं। 5. कुछ लोग मानते हैं कि हर हवाई उड़ान के बाद हवाई जहाज (Air Plane) के टायर बदले जाते हैं लेकिन ऐसा नहीं है| हवाई जहाज के टायर 38 टन वजन तक सह सकते हैं और 170 मील प्रति घंटा की रफ़्तार से जमीन पर भी उतर सकते हैं| सैकड़ों उड़ान भरने के बाद अगर टायर खराब होते हैं तभी बदले जाते हैं। 6. हवाई जहाज के टायर बदलने के लिए भी जैक का ही इस्तेमाल किया जाता है, ठीक वैसे ही जैसे कार का टायर बदला जाता है। 7. रात में प्लेन लैंडिंग के दौरान प्लेन के अंदर की लाइट डिम कर दी जाती है ताकि प्लेन से उतरने के बाद यात्रियों की आखों प…

दुनिया का सबसे गरीब देश ! World's Poorest Countries



इस लेख में दुनिया के सबसे गरीब 10 देशों के बारे में बताया गया है. सबसे बड़े आश्चर्य की बात यह है कि इन सभी 10 देशों के सकल घरेलू उत्पाद का मूल्य व्यक्तिगत तौर पर दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बिल गेट्स की कुल संपत्ति से ज्यादा नहीं है, अर्थात बिल गेट्स इन सभी देशों से ज्यादा अमीर है.
इस लेख में सबसे गरीब देश उस देश को माना गया है जहाँ पर सबसे अधिक जनसँख्या गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करती है. आइये अब इन देशों के बारे में एक एक करके जानते हैं:
1. हैती
गरीबी की दर: 77%
जनसंख्या: 1.06 करोड़
सकल घरेलू उत्पाद : 8.259 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 846 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 163वां स्थान
Image source:Operation World
अपनी कुल जनसँख्या के 77% गरीबी रेखा के नीचे रहने, 59% जनसँख्या के 2.42 डॉलर प्रतिदिन से कम कमाने और 24% जनसँख्या के 1.23 डॉलर प्रतिदिन से कम पर गुजारा करने के कारण इस देश को विश्व में सबसे अधिक गरीब माना गया है.
2. इक्वेटोरियल गिनी
गरीबी की दर: 76.8%
जनसंख्या: 12.22 लाख
सकल घरेलू उत्पाद : 11.638 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 14,176 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 183वां स्थान
Image source:Emaze
इस देश की 76.8% जनसँख्या गरीबी रेखा के नीचे रहती है. एक तेल समृद्ध देश होने का बावजूद इस देश में जीवन प्रत्याशा काफी कम है और प्राथमिक शिक्षा में नामांकन की दर केवल 56.3% है.
3. ज़िम्बाब्वे
गरीबी की दर: 72%
जनसंख्या: 1.61 करोड़
सकल घरेलू उत्पाद: 16.28 अरब डॉलर
सकल घरेलू उत्पाद प्रति व्यक्ति: 1071 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक:154वां स्थान
Image source:google
आप उस देश की कल्पना कीजिये जहाँ की 72% जनसँख्या गरीबी रेखा के नीचे रह रही हो और देश हाइपरइनफ्लैशन की समस्या से गुजर रहा हो. यहाँ पर 2008 में एक अमेरिकी डॉलर का मूल्य 4 लाख ज़िम्बाब्वे डॉलर तक पहुँच गया था. यह देश दूसरे देशों की मुद्राओं को अपने देश में चलने की अनुमति दे चुका है. सन 1980 में यह देश एक संप्रभु राष्ट्र बन गया था और रॉबर्ट मुगाबे लम्बे समय से इस देश का शासन संभाल रहे हैं.
4. कांगो (लोकतांत्रिक गणराज्य)
गरीबी की दर: 71.3%
जनसंख्या: 8.22 करोड़
सकल घरेलू उत्पाद : 41.098 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद: 474 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 176 वां स्थान
Image source:CountryReports
केवल 474 डॉलर प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद वाला यह देश अफ्रीका महाद्वीप के सबसे गरीब देशों में गिना जाता है. इस देश में स्वास्थ्य और शिक्षा की स्थिति बहुत खराब है और 1,000 पैदा हुए बच्चों में से 111.7 बच्चे अपना पहला जन्मदिन मनाने से पहले ही मर जाते हैं. फ्रेंच इस देश की आधिकारिक भाषा है.
5. स्वाज़ीलैंड
गरीबी की दर: 69.2%
जनसंख्या: 10.67 लाख
सकल घरेलू उत्पाद: 3.938 अरब डॉलर
सकल घरेलू उत्पाद प्रति व्यक्ति: 3,432 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 148 वां स्थान
अफ्रीका महाद्वीप के दक्षिण में स्थित इस देश में पूरे विश्व में सबसे ज्यादा HIV/AIDS के रोगी हैं.
6. इरित्रिया
गरीबी की दर: 69.0%
जनसंख्या: 58.69 लाख
सकल घरेलू उत्पाद : 6.5 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 844 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 186 वां स्थान
Image source:countryreports.org
केवल 844 डॉलर प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद वाला यह देश अफ्रीका महाद्वीप के "हॉर्न ऑफ़ अफ्रीका" के पास स्थित है. इस देश में प्राथमिक स्कूल में नामांकन की दर सबसे कम केवल 33.5% है.
7. मेडागास्कर
गरीबी की दर: 68.7%
जनसंख्या: 2.44 करोड़
सकल घरेलू उत्पाद: 10.3 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद: 531 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 158वां स्थान
Image source:varlamov.ru
हिन्द महासागर में स्थित यह द्वीपीय देश मेडागास्कर कई और छोटे छोटे द्वीपों से मिलकर बना है. मेडागास्कर की 69% आबादी प्रति दिन एक डॉलर से कम की आय पर जीवनयापन करती है.
8. बुरुंडी
गरीबी की दर: 66.9%
जनसंख्या: 1.11 करोड़
सकल घरेलू उत्पाद : 2.74 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 819 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 184वां स्थान
Image source:European Commission
यह देश मानव विकास सूचकांक रैंक में सबसे निचले पायदान पर स्थित है. यह पूर्वी अफ्रीका में एक भूमि आबद्ध देश है. बुरुण्डी की शिशु मृत्यु दर प्रति 1,000 जीवित जन्मों में 87.8 मौतें है जो कि दुनिया की औसत शिशु मृत्यु दर से दोगुनी है. यहाँ की 64% जनसंख्या प्रति दिन 1 डॉलर से भी कम में जीवनयापन करती है.
9. सिएरा लियोन
गरीबी की दर: 66.4%
जनसंख्या: 70.75 लाख
सकल घरेलू उत्पाद : 4.08 अरब डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 623 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 179वां स्थान
सिएरा लियोन गणराज्य, पश्चिम अफ्रीका में एक देश है. सियरा लियोन में पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा शिशु मृत्यु दर है, यहाँ पर हर 1000 जीवित बच्चों के जन्म पर 113.7 शिशुओं की मृत्यु हो जाती है. सिएरा लियोन की जीवन प्रत्याशा सिर्फ 47.4 साल दुनिया में दूसरी सबसे कम है.
10. साओटोम और प्रिंसिपे
गरीबी की दर: 66.2%
जनसंख्या: 19,428
सकल घरेलू उत्पाद : 355 मिलियन डॉलर
प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद : 1,668 डॉलर
मानव विकास सूचकांक रैंक: 142 वां स्थान
Image source:tripadvisor.com.br
आधिकारिक तौर पर डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ साओ तोमे और प्रिंसेपी, गिनी की खाड़ी में पुर्तगाली भाषी द्वीप देश है. यहाँ पर घरेलू जरुरत को पूरा करने के लिए भी खाद्यान्न का उत्पादन नही होता है, इसलिए यह अपनी जरुरत का अधिकांश खाद्यान्न आयात करता है. यहाँ की मुख्य फसल कोको है.
उपर्युक्त सभी देशों में अधिकांश देश अफ्रीका महाद्वीप से सम्बन्ध रखते हैं. यह बहुत दुखद तथ्य है कि पूरे अफ्रीकी महाद्वीप से कोई भी देश दुनिया के विकसित देश के रूप में नहीं जाना जाता है. अफ्रीका महाद्वीप के देशों के पिछड़ेपन की मुख्य वजह विकसित देशों द्वारा यहाँ पर 'शासन छोड़ने के समय' किया गया भूगर्भीय विभाजन है जिसके कारण यहाँ के कबीले हमेशा ही एक दूसरे से लड़ाई में लिप्त रहते हैं और विकास की ओर ध्यान नही दे पा रहे हैं.



Comments