पहली बार जब घड़ी का आविष्कार हुआ , दुनिया की पहली घड़ी में समय कैसे मिलाया गया

कहते हैं की हाथ में पहनी हुई घड़ी न सिर्फ इन्सान को समय बताती है बल्कि इन्सान का समय भी बताती है। कंफ्यूज हो गये क्या? कभी आपने सोचा है कि घड़ी जो बिना रुके हर वक़्त चलती रहती है ; कहाँ बनी होगी? सबसे पहले घड़ी में टाइम कैसे सेट किया गया होगा? कहीं वो टाइम गलत तो नहीं ; वरना आज तक हम सब गलत समय जीते आ रहे हैं। इन्ही सब सवालों के साथ आज कुछ घड़ी अपनी घड़ी की बात करते हैं। कई सिद्धांतों पर बनती हैं घड़ियां जैसा की हम सब जानते हैं की घड़ी एक सिम्पल मशीन है जो पूरी तरह स्वचालित है और किसी न किसी तरह से वो हमे दिन का प्रहर बताती है। ये घड़ियाँ अलग अलग सिद्धांतों पर बनती हैं जैसे धूप घड़ी; यांत्रिक घड़ी और इलेक्ट्रॉनिक घड़ी। मोमबत्ती द्वारा समय का ज्ञान करने की विधि जब हम बचपन में विज्ञान पढ़ा करते थे तो आपको याद होगा की इंग्लैंड के ऐल्फ्रेड महान ने मोमबत्ती द्वारा समय का ज्ञान करने की विधि आविष्कृत की। उसने एक मोमबत्ती पर, लंबाई की ओर समान दूरियों पर चिह्र अंकित कर दिए थे। प्रत्येक चिह्र तक मोमबत्ती के जलने पर निश्चित समय व्यतीत होने का ज्ञान होता था। कैसे देखते थे समय बीते समय में प्राचीन …

Which Is The Safest Country If World War III Happens ! अगर तृतीय विश्व युद्ध होता है तो सबसे सुरक्षित देश कौन सा होगा



 
स्विट्जरलैंड
यह संभवत: सबसे सुरक्षित देश है जहाँ आप परमाणु युद्ध या विश्व युद्ध 3 की घटना के दौरान हो सकते हैं।
ऐसा कहने के पीछे ५कारण निम्नलिखित हैं:
1. भौगोलिक तौर पर सुरक्षित।
  • स्विट्जरलैंड के दक्षिण छोर में उसका बचाव करता स्विट्जरलैंड का अल्पाइन क्षेत्र( स्विस आल्प्स) है।
  • उत्तर में खड़ा जूरा पर्वत स्विट्जरलैंड का उत्तरी हमलों से बचाव कर सकता है।
-20 डिग्री सेल्सियस तापमान और कठिन इलाकों के कारण भारी हताहतों की संख्या के बिना इन पर्वत श्रृंखलाओं को ट्रैक करना असंभव है। साथ ही, पहाड़ियों से लेकर मैदानों तक इतना सैन्य अध्यादेश जुटाना भी एक कठिन कार्य है।

2. स्विट्जरलैंड के पास 72 घंटे के छोटे नोटिस पर 200,000 सैनिकों को जुटाने की क्षमता है।
युद्ध की स्थिति में, स्विस सेना अपनी लगभग पूरी सेना और उपकरण वापस अल्पाइन क्षेत्र में जुटा सकती है। उस क्षेत्र में, स्विस मिलिटरी ने 26,000 से अधिक किलेबंद बंकर और स्थान बनाए हैं, जो उन्हें एक सामरिक लाभ देते हैं।

3. इसके अलावा, देश में हर सड़क, सुरंग, पुल और रेलमार्ग को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इन्हें कभी भी ध्वस्त किया जा सके ताकि हमलावर इनका उपयोग स्विट्ज़रलैंड के खिलाफ न कर सकें।
यदि शत्रुतापूर्ण शक्ति कभी अल्पाइन क्षेत्र को पार करती है और मैदानी इलाकों के लिए उद्यम करती है, तो स्विस सेना सुरंगों, पुलों और अन्य कनेक्टिंग पॉइंटों को उड़ा सकती है ताकि विपक्षी शक्ति को रोका जा सके।

4. यह दुनिया का एकमात्र देश है जहां अपनी पूरी आबादी को रखने के लिए पर्याप्त संख्या में फॉलआउट शेल्टर हैं।
स्विट्ज़रलैंड में सभी घर जो की 1978 के बाद बनाए गए थे, उनमें परमाणु आश्रय होना अनिवार्य है। ये परमाणु आश्रय 700 मीटर से अधिक के 12 मेगाटन से अधिक के परमाणु विस्फोट के मामले में पूरे परिवार का बचाव कर सकते हैं।

5. स्विट्जरलैंड में 8.6 मिलियन फॉलआउट शेल्टर हैं।
मूल रूप से इसका मतलब यह है कि एक बड़े शरणार्थी के बाढ़ की स्थिति में भी देश में अभी भी हर किसी के लिए पर्याप्त आश्रय है।

Comments