भारत के कुछ अजीबोगरीब कानून ! Some Unknown Laws of India

अंग्रेजों ने अपने शासन काल के दौरान बहुत से सख्त कानून बनाये थे ताकि इन कानूनों का सहारा लेकर भारतीयों को मानशिक रूप से गुलाम बनाया जा सके | इस लेख में हमने ऐसे ही कुछ कानूनों के बारे में बताया है जो कि या तो वर्तमान में प्रासंगिक नही हैं या फिर भारत सरकार ने उन्हें बदल दिया है परन्तु कुछ कानून तो आज भी अपने पुराने रूप में मौजूद हैं| 1. भारतीय दण्ड संहिता की धारा, 309: इस कानून के अनुसार यदि आप आत्महत्या करने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह सुनिश्चित कर लें कि आप अपने प्रयास में सफल हो जायें, नहीं तो जिन्दा बचने पर आपको परेशानी झेलनी पड़ सकती है क्योंकि भारत में आत्महत्या का प्रयास क़ानूनी रूप से अवैध है और यदि आप ऐसा करने में विफल हो जाते हैं तो आपको जेल भी जाना पड़ सकता है। भारतीय कानून यह मानता है कि आपके शरीर पर सिर्फ आपका ही हक़ नही है बल्कि आपकी माँ, पिता, बहिन और भाई इत्यादि का भी उतना ही हक़ है जितना कि आपका | 2. भारतीय डाकघर अधिनियम, 1898: इस अधिनियम का कहना है कि केवल भारत सरकार ही पत्र वितरित कर सकती थी इस प्रकार भारत में सभी प्रकार की कूरियर कंपनियों का बिज़नेस गैर कान…

भारत के राजाओं के विचित्र तथ्य ! InterestingFacts About Indian Kings



भारतीय राजसी परिवार हमेशा से ही बहुत ही ज्यादा भव्य और शानदार जीवन जीते रहे है मगर उनकी विचित्र आदतों के किस्से कहानिया जो कि, साहित्य और मीडिया के द्वारा पता चलता है, आपको हैरान कर देंगे इस सूची में कुछ ऐसे ही विचित्र और मजेदार किस्सों का संकलन है
  1. हैदराबाद के आखरी निज़ाम उस्मान अली खान सिद्दीकी को 1940 में सबसे रईस भारतीय घोषित किया गया था उस समय उनकी दौलत 2 करोड़ डॉलर थी जोकि उस समय की अमेरिकी अर्थव्यवस्था की 2% थी इस पैसे से उन्होंने दुनिया का सबसे बड़ा हीरा जैकब डायमंड ख़रीदा था और इस हीरे को वह पेपर वेट की तरह इस्तमाल करता था
2. वोडेयार परिवार ने मैसूर का साम्राज्य वहा के राजा को मारकर हथिया लिया था मगर रानी किसी तरह बच कर भाग गयी मगर कुछ दिन बाद उसको पता चल गया तो रानी ने कावेरी नदी में कूद कर आत्महत्या कर ली और वोडेयार को श्राप दिया कि उनके यहाँ कोई उत्तराधिकारी पैदा न हो वोडेयार परिवार ने रानी कि मूर्ति को स्थापित करवाया और देवी देवताओ कि तरह उसकी पूजा शुरू की
3. वोडेयार परिवार के आखिरी उत्तराधिकारी श्रीकांत दत्ता का बगैर किसी संतान के देहांत हो गया और इस खानदान का कोई भी वारिस नहीं बचा
4. सही मायनो में कुत्तो के चाहने वाले जूनागढ़ के नवाब महबत रसूल खान ने 800 कुत्ते पाले हुए थे और हर एक कुत्ते के लिए एक निजी सहायक था शायद वह एकमात्र राजा था जिसने कुत्तो की शादिया भी करवाई और इन शादियों की भव्य पार्टी भी दी ऐसे ही एक कार्यक्रम के लिए उन्होंने भारत के वाइसराय लार्ड एर्विन को आमंत्रित भी किया जिसको वाइसराय ने शालीनता से नकार दिया था
5. सम्राट अशोक चांडाल अशोक के नाम से प्रसिद्द था यह नाम उसको राज गद्दी के लिए अपने 99 भाइयो की हत्या करने के बाद मिला था हालाँकि उसने एक भाई तिस्सा को नहीं मारा था और उसको उप राजा (deputy king) बनाया था
6. पल्लव वंश के राजकुमार, बोधि धर्मा चीन गए थे और वह पर उन्होंने शाओलीन के भिक्षुओ को मार्शल आर्ट की शिक्षा दी और वहा से कुंग फु विद्या की शुरुआत हुई
7. राज कुमार मानवेन्द्र सिंह गोहिल एकमात्र राजशी व्यक्ति है जिन्होंने अपनी समलैंगिकता के बारे सार्वजानिक तौर पर सबको बताया था दुर्भाग्य से उनके परिवार ने खानदान का नाम को बदनाम करने के लिए त्याग दिया था
8. अलवर के राजा जय सिंह को एक बार रोल्स रॉयस कार के सेल्समेन ने अपमानित कर दिया था इससे नाराज़ होकर उन्होंने रोल्स रॉयस कार को शहर के कचरे को ढोने के लिए इस्तमाल किया और उस समय तक करते रहे जब तक कार की कंपनी ने उनसे माफ़ी नहीं मांगी
9. महारानी गायत्री देवी जिनको जयपुर की राजमाता के नाम से भी जाना जाता है उनको 1960 में vogue magazine द्वारा विश्व की 10 सुन्दर महिलाओ में शामिल किया गया था
10. गायत्री देवी की माँ महारानी इंदिरा देवी एक फैशन की विशेषज्ञ थी कूच बिहार की रानी ने बीसवीं सदी के प्रसिद्द डिज़ाइनर Salvatore Ferrogamo से 100 जोड़ी जूते मंगाए थे कुछ जूतों में हीरे भी जड़े हुए थे
11. मुग़ल काल में महलो में रहने वाली राजसी औरते दिन में कई बार कपडे बदलती थी और किसी कपडे को दोबारा नहीं पहनती थी बल्कि इस्तमाल किये हुए कपडे अपने नौकरो को दे देती थी
इन विचित्र राजसी किस्सों को पढ़ने के लिए धन्यवाद

Comments