कंडोम के कुछ मज़ेदार उपयोग

जितेन्द्र प्रताप सिंह (Jitendra Pratap Singh)
कुछ साल पहले उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बहुत खुश हुआ जब बनारस के बुनकरों में मुफ्त में बांटे जाने वाले कंडोम की मांग खूब बढ़ गई। स्वास्थ्य विभाग यह सोच रहा था कंडोम बांटने से बुनकरों के जनसंख्या वृद्धि रुकेगी और कंडोम का सही इस्तेमाल होगा लेकिन जब पता चला कि बनारसी साड़ी बनाने वाले बुनकर मुफ्त में मिलने वाले कंडोम का इस्तेमाल साड़ी बनाने में कर रहे हैं तब ना सिर्फ उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग बल्कि पूरी दुनिया चौक उठी थी साड़ी बनाने वाले बुनकर कंडोम का इस्तेमाल अपने करघा पर करते हैं. साड़ियाँ तैयार करने में इस्तेमाल हो रहे हैं कंडोम दरअसल कंडोम में चिकनाई युक्त पदार्थ होता है और करघा पर लगाने से उसके धागे तेज़ी से चलते हैं और उनमें चमक भी आ जाती है. क्योंकि कंडोम में प्राकृतिक रबड़ यानी लैक्टेस होता है इसलिए बुनकर बुनाई के पहले धागों को कंडोम से खूब रगड़ देते हैं जिससे धागे में इतनी अच्छी चिकनाई आ जाती है इस साड़ी की बुनाई करते समय धागा फसता नहीं है और बुनाई तेजी से होता है और साड़ियों में बहुत अच्छी प्राकृतिक चमक आ जात…

भारतीय वायुसेना के बारे में कुछ रोचक तथ्य ! Some Interesting Facts About The Indian Air Force

1.भारतीय वायुसेना का एक एयरबेस तजाकिस्तान में स्थित है।
ताजिकिस्तान में स्थित फर्कोर एयर बेस देश के बाहर भारत का पहला और एकमात्र मिलिट्री बेस है।इसकी देखरेख भारतीय वायुसेना तथा तजाकिस्तान वायुसेना दोनों के सहयोग से होता है।
2. भारतीय वायुसेना के नाम एक विश्व रिकॉर्ड भी दर्ज है।
अपने ‘राहत’ अभियान के दौरान उत्तराखंड में आयी त्रासदी में भारतीय वायुसेना ने 20,000 नागरिकों का जान बचाकर अपने नाम एक विश्व रिकॉर्ड दर्ज किया।
3. 1380 एयरक्राफ्ट बेड़े के साथ भारतीय वायुसेना संयुक्त राज्य अमेरिका,रूस एवं चीन के बाद विश्व में चौथे स्थान पर है।
4. फ्लाइंग ऑफिसर निर्मलजीत सिंह सेखो परमवीर चक्र से सम्मानित किए जा चुके है।उन्हें 1971 के भारत-पाक युद्ध में अपने अदम्य साहस के लिए यह चक्र मिला है।वे भारतीय वायुसेना से एकमात्र परमवीर चक्र प्राप्तकर्ता है।
5. भारतीय वायुसेना का अपना एक संग्रहालय भी है,जो की दिल्ली में स्थित है।इसमें भारतीय वायुसेना के स्थापना काल 1932 से लेकर वर्तमान समय तक का एक नायाब संग्रह है।
6. भारतीय वायुसेना के अधिकारी अर्जुन सिंह एकमात्र 5 सितारा रैंक वाले जीवित सैन्य अधिकारी है।
फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ की मौत के साथ, भारतीय वायुसेना के मार्शल अर्जुन सिंह 5-सितारा रैंक वाले एकमात्र जीवित भारतीय सैन्य अधिकारी हैं। उनका रैंक अब फील्ड मार्शल के बराबर है।
 

Comments