भारत के अलावा पांच देश है जो 15 अगस्त को अपनी आजादी के रूप में मनाते हैं ! five countries which celebrate 15 August as their independence.

प्रेम सिंह (Prem Singh)
भारत के अलावा ये 5 देश भी 15 अगस्त को मनाते हैं आजाद का जश्न देशवासी इस साल अपनी आजादी की 73वीं सालगिरह मनाने जा रहे हैं। अंग्रेजों की करीब 200 की गुलामी से मुक्ति मिले 72 साल पूरे हो जाएंगे। लेकिन शायद यह कम लोगों को ही पता होगा कि दुनिया के पांच देश ऐसे हैं जो 15 अगस्त को ही भारत के साथ अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। तो आइए जानते हैं भारत के अलावा और कौन से हैं ये देश- 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाने वाले देशों के नाम हैं- नॉर्थ कोरिया, साउथ कोरिया, कांगो, बहरीन और लिकटेंस्टीन। दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया की आजादी दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया को आज से 74 साल पहले जापानी कॉलोनाइजेशन से 15 अगस्त 1945 में मुक्ति मिली थी। दक्षिण कोरिया और नॉर्थ कोरिया इस साल अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। रिपब्लिक ऑफ कांगो में स्वतंत्रता दिवस रिपब्लिक ऑफ कांगो मध्य अफ्रीकी देश है जिसे 15 अगस्त 1960 में आजादी मिली थी। इस प्रकार कांगो अपना 60 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लिकटेंस्टीन की आजादी का दिन 15 अगस्त यूरोपीय देश लिकटेंस्टीन को भी 15अगस्त के दिन आजादी …

सिक्ख धर्म में सभी महिलाओं के नाम के पीछे 'कौर'और पुरूषों के नाम के पीछे 'सिंह' क्यों लगाया जाता है?


 

हम सब के नाम और उपनाम अलग-अलग हैं. अगर देखा जाए तो हजारों तरह के उपनाम है, आप एक उदाहरण देख लीजिए : अगर सौ लोग बैठे होंगे, और आप उनके उपनाम जानेंगे तो सब के उपनाम लगभग अलग ही होंगे. जैसे कोई अग्रवाल होगा, कोई कपूर, कोई शर्मा, कोई महाजन, कोई चैटर्जी आदि. परंतु सिख धर्म में सभी के चाहे जातिसूचक नाम अलग हो परंतु नाम के आगे ‘सिंह ’अनिवार्य होता है. जैसे गुरप्रीत सिंह ढिल्लों.
Picture credit :Google
आइए जानते हैं ‘सिंह’ और ‘कौर’ नाम के पीछे क्या इतिहास है? और इनकी क्या विशेषता है? यह प्रथा तब शुरू हुई जब 1699 में दसवीं पातशाही श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की. उन्होंने यह ऐलान किया कि सिखों को एक नई पहचान दी जाएगी. जातिवाद और ऊंच नीच का भेदभाव खत्म करने की कोशिश की जाएगी, क्योंकि इन सब का सिख धर्म में कोई स्थान नहीं है. यह वह समय था जब जाति से ही लोगों की पहचान होती थी. वास्तव में यह नामकरण जातिवाद व्यवस्था पर कुठाराघात था. गुरु जी ने कहा भाइयों को ‘सिंह’ शब्द से उच्चारित किया जाएगा. सिंह यानी ‘शेर ’जो किसी से नहीं डरता, उसे सिर्फ ईश्वर का ही भय है और सच्चा सिंह सिर्फ सच के मार्ग पर ही चलता है. अब जहां तक ‘कौर’ शब्द के अर्थ का सवाल है, कौर का अर्थ होता है: ‘राजकुमारी. ’ इसे संस्कृत शब्द कुमरी और राजस्थानी शब्द कुंवर के स्त्रीलिंग के रूप में लिया जाता है. गुरुजी ने स्त्रियों को पुरुषों जितना सम्मान प्राप्त हो, यह सुनिश्चित किया. भारत में सिख लड़कियां शादी के बाद भी यह उपनाम नहीं बदलती. यह उपनाम उनके नाम के साथ लगा रहता है वास्तव में में गुरु जी ने स्त्री और पुरुष दोनों को बराबर लेकिन साथ ही अद्वितीय माना. कई सिख नामों की समानता के चलते अपने गांव का नाम साथ में जोड़ लेते हैं,जिससे उनके नाम से मिलते जुलते नामों की समस्या का समाधान हो सके.
भारत में ‘ सिंह ’उपनाम केवल सिखों द्वारा ही प्रयोग नहीं किया जाता, बल्कि यह अन्य कई जातियों द्वारा शीर्ष या मध्य नाम या उपनाम के रूप में प्रयोग किया जाता है. जैसे गुज्जर: मानसिंह गुर्जर, मराठा : प्रताप सिंह गायकवाड, हिंदू जाट : भीम सिंह राणा और सिख जाट : रणजीत सिंह आदि.

Comments