अनोखे और रोचक तथ्य ! Unique and interesting facts

अगर आप “Goldfish” को अंधेरे कमरे में रखोगे, तो ये अपना रंग खो देगी.
अमेरिका का झंडा एक school project के लिए 17 साल के बच्चे ने डिज़ाइन किया था. जिसमें उसको सिर्फ B- मिला. “Anatidaephobia” उस भयंकर डर को कहते हैं,
जब आपको लगता है कि कही, कोई बत्तक आप पर नज़र रख रहा हैं. 2022 में Mars (मंगल ग्रह) पर एक trip जाएगी, जिसके लिए अभी से 1 लाख लोगो ने apply कर रखा हैं. इनके वापिस आने की कोई गारंटी भी नही.

शरीर पर अधिक बाल होना, बुद्धिमता से जुड़ा हुआ हैं.
जापान में गोद लिए गए 98% बच्चे लड़के होते हैं.
क्योकिं ये बाद में बिजनेस में सहायता करते हैं.
 महिलाएं अपनी जिंदगी का एक साल तो ये decide करने में लगा देती हैं कि क्या पहने.
 हर साल शार्क द्वारा 12 मनुष्य मारे जाते हैं, जबकि हर घंटे मनुष्य द्वारा 11,417 शार्क मारी जाती हैं.
रोज़ 1 can soda पीने से आपको 2 types के Diabeties होने के चांस 22% तक बढ़ जाते हैं.
लोग सबसे ज्यादा creative रात में होते हैं और सबसे कम creative दोपहर में होते हैं.
 एक भारतीय आदमी ने यह दावा किया है कि उसने 70 साल तक न तो कुछ खाया हैं और न ही कुछ पिया हैं,कई test …

क्यों चीन इतना अमीर है और भारत इतना गरीब ! Why is China so rich and India so poor



एक जमाना था जब चीन में मानव अधिकार नहीं थे, वहां के तानाशाह माओ ने 2 करोड़ लोगों की जान भुखमरी के माध्यम से ले ली थी | यूँ तो चीन के पास उस वक्त भी कई प्राकृतिक संसाधन थे , लेकिन 1979 में चीन ने दुनिया के सामने अपनी उस शक्ति का प्रचार किया, जो उसका भविष्य बदलने वाला था |
वो शक्ति थी चीन की जनसँख्या | चीन के पास युवाओं की फ़ौज थी, उन्होंने दुनिया को कहा की आप अपनी फैक्ट्री चीन में लगाइए , हम आपको दुनिया में सबसे सस्ता लेबर (मजदूर) प्रदान करेंगे |
चीन में फैक्ट्री लगाना बेहद आसान हो गया , चूँकि चीन में कम्युनिस्ट शासन था, और कम्युनिस्ट शासन में जमीन की निजी स्वामित्व नहीं होती है | चीन ने अपने विशाल देश की जमीने कौड़ियों के दाम पर विदेशी कंपनियों को दे दी | तत्काल प्रभाव से “मेड इन चाइना” मुहीम ने रफ़्तार पकड़ ली | और उसका परिणाम क्या हुआ हम सभी जानते है |
ऐसा भारत में हम नहीं कर सकते थे, किसी की जमीं छीन कर वहां फैक्ट्री लगाने का फैसला कोई सरकार लेती , तो देश में क्रांति ही हो जाती | हाल ही में भूमि अधिग्रहण कानून मोदी सरकार ने वापस ले लिया | और भारत में तगड़े मजदुर कानून है | मजदूरों के अधिकारों, बोनस, पी ऍफ़ इत्यादि के कड़े प्रावधान है |
केवल यही एक अंतर था जिसने चीन को वर्तमान में हमसे आगे पहुंचा दिया है |
भारत बिल्कुल गरीब है ऐसा भी नहीं है, भारत की गरीबी में काफी सुधार हुआ है , 1991 के बाद से गरीबी घटी ही है , बढ़ी नहीं है | कई राज्य ऐसे है जहाँ मुफ्त के राशन या फिर सरकारी माल के लिए 3 मंजिला घर में रहने वालो ने भी बी पी एल कार्ड बनवा लिया है | भारत में गरीबी एक समस्या जरुर है लेकिन भारत की गरीबी उतनी भी नहीं है जितना हम दिखाते हैं | बहुत से लोगों ने शासकीय लाभ प्राप्त करने के लिए फर्जी आय प्रमाण पत्र बनवाया है जिससे गरीबी के आंकड़े विश्वसनीय नहीं है |

Comments